9 जुलाई को 10 प्रान्तों से कार्यकर्ता पहुंचे दिल्ली के प्रशिक्षण कार्यक्रम में

नई दिल्ली, एकलव्य मानव संदेश बीयूरो रिपोर्ट 11 जुलाई 2017। निर्बल इंडियन शोषित हमारा आम दल (निषाद पार्टी) और राष्ट्रीय निषाद एकता परिषद (RNEP) नई दिल्ली में स्थित बस बॉडी बारात घर ख्याला में आयोजित एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम में दिल्ली, हरियाणा, राजिस्थान, माध्यम प्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखंड, बिहार, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड पश्चिम बंगाल के कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों ने भाग लिया।
राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ संजय कुमार निषाद ने पार्टी की स्थापना और अब तक की प्रगति के बारे में बताते हुए कहा कि निर्बल समाज को आगे बढ़ने के लिए मजबूत विचार धारा के साथ दक्ष और प्रशिक्षित कार्यकर्ताओं की महती आवश्यकता होती है। और सत्ता ही सभी समस्याओं के समाधान की मास्टर चावी होती है। जिस जिस समाज ने सत्ता में भगीदारी की है आज उन्हीने सबसे ज्यादा प्रगति भी की है।
निषाद वंस इस देश का मालिक है, ये सुप्रीम कोर्ट भी अपने एक आदेश में कह चुका है, जिसे आज तक किसी ने कोई चुनौती नहीं दी है।
निषाद आर्यो के आगमन से पूर्व, भारत की संस्कृति थी। निषाद कोई जति नहीं है वल्कि भारत की संस्कृति को पहले निषाद संस्कृति कहा जाता था।
इस देश में भगवानों के भगवान महाराजा गुह्यराज निषाद का राज्य था, जिनका किला आज भी इलाहाबाद के पास श्रृंगवेर में है।
इस देश मे महाराजा हिरण्यकश्यप का राज्य था जिनका किला आज भी झांसी जिले के एरच के पास प्रहलाद नगरी में है।
इस देश मे महाराजा नल निषाद का राज्य था, जिनकी मुहर आज उत्तर प्रदेश सरकार की मुहर के रूप में चल रही है।
इस देश मे महान धनुर्धर वीर एकलव्य के पिता हिरण्याधनु का राज्य था, जिनसे कृष्ण ने द्वारिका अपनी शरण के लिये दान में प्राप्त की थी।
इस देश को आजाद कराने के हजारों निषाद वंशीयो ने अपनी जान कुर्वान की ।
आज इस आजाद भारत में अगर सबसे ज्यादा परेशानी उठानी पड़ रही है और सबसे ज्यादा पीड़ित और उपेक्षित अगर कोई समाज है, तो वो निषाद वन्स ही है।
इसके लिए केवल सत्ता में भागेदारी ही इस अति पिछड़े और निर्बल वर्ग का कल्याण कर सकती है। इसके लिए ही निषाद पार्टी का जन्म हुआ है।
आप अपने समय में से जो भी समय निकाल सको उसे अपने रिश्तेदारों, पड़ोसियों, दोस्तों और अन्य पहचान वालों में प्रचार में आज लगाओगे तो आने वाला समय आपको राज सत्ता में भागेदारी जरूर दिलाएगा।
सभा को कई पदाधिकारियों ने भी संबोधित किया।
सुल्तानपुर के दिल्ली निवासी श्री महेंद्र प्रसाद निषाद, मेरठ के श्री राज कुमार निषाद, श्री मथुरा प्रसाद निषाद, श्री राकेश निषाद आदि का कार्यक्रम के सफल आयोजन में विशेष योगदान रहा।

हमारे प्रयास को अपना योगदान देकर और मजबूत करें

हमरी एंड्रॉइड ऐप मुफ्त में डाउनलोड करें

हमारे चैनल की मुफ्त में सदस्यता लें

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें

निषाद पार्टी न्यूज़

न्यूज़ वीडियो

निषाद इतिहास