अनुशासन से ही संगठन को मजबूती मिलती है

गोरखपुर, एकलव्य मानव संदेश रेपोर्टरत 30 जुलाई 2017।
साथियों.....
        जीवन में अनुशासन का अत्यंत महत्व है। अनुशासन के बिना कोई भी कार्य सही तरीके से प्रारंभ या समाप्त नही हो सकता है। अनुशासित जीवन ही जीवन है। अनुशासन का अर्थ है नियमो का पालन करना। अनुशासन का अर्थ आज्ञा भी होता है। हम सभी घमंड में रहते है और कुछ काम नही होता। पार्टी के नियमों का पालन करना हमारा कर्तव्य है। पार्टी  के सारे नियम - कानून हमारे भले के लिए ही बनाए गए है परंतु हमहीं उनका पालन ही नही करते। कार्यकर्ता अनुशासन में रहे तो किसी का बुरा नही होगा। कार्यकर्ता नियमो का पालन करतें है। नियमों का पालन ना करके मुसिबत का आलिंगन करते है। हम सबको यह बात समझनी चाहिए। अनुशासन में न रहने से हमे और संगठन को बहुत हानि होती है और हमें सामाज में बुरा भी माना जाता है। अनुशासन एक मज़ाक नही है। 
''धन या बल या सामाजिक प्रतिष्ठा से सफलता का आंकलन नहीं किया जाता, बल्कि अनुशासन और आपकी आन्तरिक शांति से ही आपकी सफलता आंकी जाती है"
ई०प्रवीण कुमार निषाद
प्रदेश प्रभारी(निषाद पार्टी)
मो० 8756555721