प्रधानमंत्री बनाने के लिए पिछड़ों का सहारा, राष्ट्रपति बनाने के लिए दलितों का सहारा और अब देश के चार शीर्ष पदों आरएसएस का कब्जा ? आया कुछ समझ में ???? जगो !!!!!

अलीगढ़, एकलव्य मानव संदेश संपादकीय, 6 अगस्त 2017। आयना भी बोलता है, समझने के लिए इशारा ही काफी है ?