शर्मनाक, योगिराज में स्वर्ग से आये फर्जी शिकायत पत्र पर निषाद वंशिय आरक्षण के लिए शहीद हुए वीर शहीद अखिलेश निषाद स्मारक विद्यालय अधिकारियों ने कराया बंद

मड़ियाँ दिलीप नगर, इटावा, एकलव्य मानव संदेश रिपोर्टर, 6 अगस्त 2017। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार द्वारा प्रदेश भर में चल रहे गैर मान्यता प्राप्त विद्यालयों को बंदकर, कानूनी कार्यवाही के आदेश का लाभ उठाते हुए, किसी सरारती तत्व द्वारा एक फ़र्ज़ी सिकायत पत्र बेसिक शिक्षा अधिकारी को भेजा गया। पत्र में 3 लोगों के नाम लिखे गए और उनका पता मड़ियाँ दिलीप नगर लिखा गया, जबकि उन नामों के कोई भी व्यक्ति शहीद अखिलेश निषाद के गांव में नहीं रहते हैं। पड़ोसी गांव इकनोर में उन नामों के 3 व्यक्ति यादव समाज के रहते हैं, और उसमें से एक व्यक्ति काफी पहले स्वर्ग सिधार चुका है।
शिक्षा  विभाग ने इस फ़र्ज़ी सिकायत पत्र की कोई जानकारी नहीं कि और मौके पर जाकर खंड शिक्षा अधिकारी ने विद्यालय बंद करके के आदेश दे दिये।
अखिलेश के नाम पर चल रहे इस विद्यालय में मात्र 40 गरीब बच्चे शिक्षा पा रहे थे। अब विद्यालय बंद कर देने से इनके परिवार को काफी नुकसान होगा।
शहीद अखिलेश निषाद के पिताजी श्री आत्मा राम जी ने जन सहयोग से मिली राशि को खुद न खर्चकर अपने एक खेत में, जहाँ शहीद अखलेश निषाद की समाधि बनी हुई है, वहीँ पर गरीब बच्चों को शिक्षा देने के उद्देश्य से एक प्राइमरी विद्यालय की स्थापना की है। यह विद्यालय खुद शहीद अखिलेश निषाद ने अपने 2 साथियों को लेकर एक मंदिर पर प्रारम्भ किया था। अब इसके विधिवत संचालन के लिए एक ट्रस्ट के रजिस्ट्रेशन 23 मई 2017 को कराया गया है और उसका पैन कार्ड 1 अगस्त 2017 को काफी समय बाद इनकम टैक्स विभाग द्वारा बनाकर भेजा गया है। अब मान्यता के लिए जरूरी कार्यवाही पूरी करने की प्रक्रिया चल रही है। लेकिन योगी सरकार और स्वर्ग वासी नहीं चाहते हैं कि निर्बलों के भी विद्यालय चलें। शहीद अखिलेश निषाद का गांव यमुना किनारे, बीहड के अतिपिछड़े इलाके में स्थित है और अखलेश निषाद के पिताजी, जिनका एक मात्र बेटा गरीबों के अधिकारों के लिए शहीद हो गया, उसके सपनों को पूरा करना चाहते हैं, जो शैतानों को अच्छा नहीं लग रहा है और अपनी नामर्दी को दिखाने के लिए स्वर्ग वासियों के नाम का सहारा लेकर एक अच्छे मिशन को कुचलना चाहते हैं।

हमारे प्रयास को अपना योगदान देकर और मजबूत करें

हमरी एंड्रॉइड ऐप मुफ्त में डाउनलोड करें

हमारे चैनल की मुफ्त में सदस्यता लें

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें

निषाद पार्टी न्यूज़

न्यूज़ वीडियो

निषाद इतिहास