क्या बाढ़ से हुई तबाही मचाने में, पानी के दबाव से ज्यादा, चूहे जिम्मेदार हैं ?

गोरखपुर, एकलव्य मानव संदेश रिपोर्टर, 20 अगस्त 2017, गोरखपुर बाढ़ की एक रिपोर्ट, निर्बल इंडियन शोषित हमारा आम दल(निषाद पार्टी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष महामना डॉ संजय कुमार निषाद पूरे 2 दिन देर रात तक बाढ़ पीड़ितों के बीच रहे औऱ सरकार व सरकारी कर्मचारियों द्वारा बाढ़ राहत के इंतजामों में बरती गयी लापरवाही पर अधिकारियों को अवगत भी कराते रहे। जिलाधिकारी राजीव रौतेला भी बाढ़ नियंत्रण कार्यों की स्थल समीक्षा में लगे रहे। बाढ़ की समस्या को देख, कोई पार्टी का नेता घर से नही निकल रहा था, वहाँ बरसात में अपनो के लिए संघर्ष करते निर्बल इण्डियन शोषित हमारा आम दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष महामना डॉ संजय कुमार निषाद ने एक मिसाल कायम की।
इस बीच अभी तक जितने भी बंधे पुरे प्रदेश मे टूटे हैं, उन सभी में एक बात कामन रही की, सारे के सारे बंधे पानी के बढ़ते दबाव से नही बल्कि चुहे के गुल्ला काटने से ज्यादा टूटे हैं, जिनसे पहले रिसाव शुरु हो जाता है और उसको शासन प्रशासन भी रोकने में नाकाम साबित हो रहा है और इसका खामियाजा आम लोगों को, जो गरीब और शोषित हैं, उनको अपना सब कुछ गवां कर उठाना पड़ रहा है। इसका पता चलते ही महामना  डा. संजय कुमार निषाद(राष्ट्रीय अध्यक्ष निषाद पार्टी) ने तुरंत जाकर निरीक्षण करना शुरु कर दिया और सम्बन्धित अधिकारीयों को तुरंत कार्यवाही के लिए फटकार लगाई और दबाव बनाए। और गांव के घर घर के छतो व बाँधो पर लोगो के पास जा जा के राहत सामग्री पहुंचाने लगे रहे।
डॉ संजय कुमार निषाद ने गोरखपुर ग्रामीण बिधानसभा के बिनहा गांव में टूटे हुए बंधे का निरीक्षण किया और गांव वालों को उचित सहयोग का आश्वाशन दिया।
19/08/2017 को कठौर (सेमरा देई ) में बंधे से रिसाव से बांध टूटने का खतरा बरकरार रहा। प्रशासन मदद करने में वहाँ असफल रहा। निषाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉक्टर संजय निषाद ने निरीक्षण किया और अधिकारियों को जल्दी से सहयोग की दरकार की।गोरखपुर ग्रामीण विधानसभा के ग्राम गौर बरसाइत में बाढ़ पीड़ितो के बीच उनसे मिलने पहुँचे महामना डा.संजय कुमार निषाद और उनकी समस्याओं को ध्यान से सुनकर कहा कि पीड़ित ग्रामवासियों के लिए, हर संभव मदद के लिए निषाद पार्टी हर वक्त तैयार रहेगी। इस अवसर पर N.I.S.H.A.D पार्टी और निषाद पार्टी की युवा मोर्चा की टीम भी साथ रही।
     19/08/2017 को शुबह 6.40 बजे छोटका पथरा के बंधे से रीसाव तेज होने के बाद बंदे को बचाने के लिए ग्रामणों द्वारा प्रयास प्रारम्भ किये गए।
दिन रात अपनों के दुःख को दूर करने की चाहत में आज 20 अगस्त को डॉ संजय कुमार निषाद जी को शर्दी ने अस्वस्थ कर दिया इसके बाबजूद अपने हौसले को बरकरार रखते हुए युवा मोर्चा की टीम को बाढ़ राहत कार्यों में लगाये रहे।
इसी को कहते हैं
बाढ़ से एक ही बचता है
वो है
जय निषाद राज
जय निषाद राज
जय निषाद राज