केंद्रीय मंत्री के द्वारा रामलीला में निषाद राज भूमिका निभाने पर राज्यसभा सांसद डॉ अनिल सहानी ने केंद्र से आरक्षण निषादों का आरक्षण लागू करने की याद दिलाई

नई दिल्ली, एकलव्य मानव संदेश रिपोर्टर, 25 सितंबर 2017। निषाद राज की भूमिका निभाने के लिए केन्द्र सरकार के समाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री श्री सांपला जी के प्रति हार्दिक अभार एवं बधाई के साथ कहना चाहते हैं कि आज किस प्रकार से निषाद राज के बंसज बदहाली मे जी रहे हैं, इस पर भी सरकार को ध्यान देना चाहिये। निषादराज के बंस के मछुआ, मल्लाह, निषाद, तुरहा, नूनीया, बिन्द, गोंड, कश्यप, माँझी, वेलदार, साहनी, तीयर, धीमर, मल्हार, महाजन इत्यादि जो भारत देश के कई राज्यों मे अनुसूचित जाति मे और कई राज्यों मे जन जाति मे सामिल हैं।
बही बिहार और उत्तर प्रदेश मे अति पिछडा और पिछड़ी जाति मे सामिल किया गया ? जबकि बिहार सरकार और उत्तर प्रदेश सरकार ने कई बार केन्द्र सरकार के पास अपनी अनुशंसा भेजी है कि इन जातियों को अनुसूचित जाती या  जन जाति मे सामिल किया जाय मगर आज तक इन जातियों को अनुसूचित जाति/जन जाति में सामिल नहीं किया गया है ।
आज निषाद राज के बंसज केन्द्रीय मंत्री सामाजिक न्यास एवं अधिकारीता से अनुरोध करते हैं कि निषाद राज के बंसजों के साथ न्याय करें और उत्तर प्रदेश और बिहर मे इनकी बंसज जातियों को अनुसूचित जाति या जन जाति मे सामिल कराने के लिये साकारात्मक पहल करें।
सादर सम्मान के साथ :- डाँ अनिल कुमार साहनी सांसद !