कश्यप-निषाद सहित अन्य मार्शल कौम को भी मिले स्वतन्त्रता सेनानी का दर्जा

सीतापुर, एकलव्य मानव संदेश रिपोर्टर, 21 सितंबर 2017। सीतापुर में मूलवासी सेना के आवाह्न पर आयोजित हुआ शिक्षण-प्रशिक्षण कैम्प में कहा गया कि जंगे आजादी में जिन कौमों ने मुल्क की भलाई के लिए अपना सब कुछ बलिदान कर दिया, उनकी सन्तानें आज भी बुनियादी सहूलियतों से महरूम हैं, जो भारतीय लोकतन्त्र के लिए शर्म का विषय है l
        यह बात मूलवासी सेना के आवाह्न पर विधान सभा बिसवां क्षेत्र के कल्यानपुर गॉव में आयोजित  "शिक्षण-प्रशिक्षण कैम्प" को सम्बोधित करते हुए लखनऊ मण्डल अध्यक्ष राजेश कश्यप ने कही l उन्होंनें अदम गोण्डवी की शेर का जिक्र करते हुए यह भी कहा कि "जब सौ में सत्तर नौसाद है तो दिल पर हाथ रखकर कहिए क्या देश आजाद है ? " अर्थात देश की सत्तर फीसदी जनता आज भी परेशान है जिसने आजादी के आन्दोलन में अपना सर्वस्व न्योछावर किया था इसलिए सरकारों से हम मांग करते है कि कश्यप- निषाद, मौर्या, प्रजापति, बढ़ई, पाल,  लुहार, कुर्मी, लोधी, पासी , तेली , धोबी सहित अन्य मार्शल कौम के परिवारों को स्वतन्तत्रता सेनानी का दर्जा दिया जाय ताकि इन देश प्रेमी कौमों को गौरव महसूस हो सके l बिसवां तहसील के अध्यक्ष सुधीर कुमार धुरिया ने कहा कि इन सभी मार्शल कौमों को फिरंगियों ने 12 अक्टूबर 1871 को क्रिमनल ट्राईब्स एक्ट बनाकर अमानवीय तरीके से प्रताड़ित कर बेहद अपमानजनक जिन्दगी गुजारने के लिए विवश कर दिया था क्योंकि उस वक्त जो भी इस काले कानून की चपेट में आये थे उनके माथे पर सिक्के का निशान दागा जाता था ताकि इन्हें कोई भी आसानी से पहचान सके और गर्भ में पल रहे बच्चे को भी इस अमानवीय कानून का शिकार होना पड़ता था लेकिन आजादी के इतने दशक गुजर जाने के बावजूद भी इन मार्शल कौम की सन्तानों का कोई पुरुषाहाल पूंछने वाला नहीं है जो भारतीय सरकारों की संवेदना पर तीखा सवाल खडा़ करती है l महमूदाबाद विधान सभा उपाध्यक्ष शिवलाल ने कहा कि इस काले कानून की चपेट में आयी कौमों के साथ यदि जल्द ही सामाजिक न्याय नहीं हुआ तो हम सब मिलकर राजनीतिक ताकत बनकर अपने हकों को छीन लेगें l कार्यक्रम का आयोजन अशोक कश्यप व संचालन डीके कश्यप ने किया l
           इस मौके पर सौरभ कश्यप, अजय कुमार, आशीष पटेल, रामनरायन यादव, जगदीश भार्गव, फुलवासा सहित अन्य लोग मौजूद रहे l

हमारे प्रयास को अपना योगदान देकर और मजबूत करें

हमरी एंड्रॉइड ऐप मुफ्त में डाउनलोड करें

हमारे चैनल की मुफ्त में सदस्यता लें

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें

निषाद पार्टी न्यूज़

न्यूज़ वीडियो

निषाद इतिहास