सीतापुर की सिधौली विधानसभा क्षेत्र में महर्षि बाल्मीकि जयन्ती मनाई गई

सीतापुर, एकलव्य मानव संदेश रिपोर्टर, 5 अक्टूबर 2017। महर्षि बाल्मीकि ने अपने लेखनी की बदौलत रामायण जैसा अनुपम महाकाब्य रचकर राम, सीता, नत्थालाल केवट, गुह्यराज निषाद, शम्बूक, रजक नामक धोबी, शबरी आदि अनेक पात्रों से सम्बन्धित जानकारी आम जनता तक पहुँचाया l
           यह कहना है कि निर्बल इण्डियन शोषित हमारा आम दल ( निषाद पार्टी ) के लखनऊ मण्डल उपाध्यक्ष राजेश कश्यप का l वह सिधौली विधान सभा क्षेत्र के अल्लीपुर गॉव में महर्षि बाल्मीकि की जयन्ती पर  आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे l उन्होंने आगे कहा कि महर्षि बाल्मीकि के लिए प्रकाण्ड विद्वान, अद्भुत कवि, संस्कृत भाषा में दक्ष सहित अनेक विशेषणों का प्रयोग किया जा सकता है l अधिक दिनों तक तपस्या किये जाने के कारण तपस्या स्थल दीमक के घर जैसा हो गया था इसलिए इन्हें बाल्मीकि कहा गया क्योंकि बाल्मीकि का अर्थ दीमक का घर होता है l महर्षि बाल्मीकि के मुख से जो पहला श्लोक फूटा था वह इस प्रकार है
" मा निषाद प्रतिष्ठां त्वमगम: शाश्वती: समा:

इसके बाद रामायण जैसा विश्व विख्यात महाकाब्य की रचना की जिसके पात्रों के जरिए समाज में अनेक सन्देश देने की सफल कोशिश की l
            इस मौके पर रामस्वरूप कनौजिया, सावित्री देवी, बलराम रावत, डीके कश्यप सहित अन्य उपस्थित रहे l

हमारे प्रयास को अपना योगदान देकर और मजबूत करें

हमरी एंड्रॉइड ऐप मुफ्त में डाउनलोड करें

हमारे चैनल की मुफ्त में सदस्यता लें

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें

निषाद पार्टी न्यूज़

न्यूज़ वीडियो

निषाद इतिहास