निषाद पार्टी किसी पार्टी में विलय नहीं, भाजपा को हराने के लिये केवल चुनावी गठबंधन करने के लिए तैयार है-डॉ संजय कुमार निषाद

गोरखपुर, एकलव्य मानव संदेश रिपोर्टर, 29 अक्टूबर 2017। शनिवार को गोरखपुर के एक होटल में पत्रकारों से वार्ता करते समय निषाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष महामना डॉ. संजय कुमार निषाद ने कहा कि उनकी पार्टी का समाजवादी पार्टी या फिर किसी भी दल में विलय नहीं होगा, मगर बीजेपी को हराने के लिये हम गठबंधन को तैयार हैं। उन्होंने बताया कि लोकसभा उप चुनाव के लिए समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से दो बार मुलाकात हुई है, जिसमें लोकसभा उप चुनाव पर चर्चा हुई है।
मुख्य मंत्री आदित्यनाथ के इस्तीफे के बाद खाली हुई गोरखपुर सदर लोकसभा सीट से उप चुनाव लड़ने की चर्चा के बीच निर्बल इंडियन शोषित हमारा आम दल (निषाद पार्टी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. संजय शनिवार को मीडिया से मुखातिब हुए और कहा कि निषाद पार्टी गोरखपुर, फूलपुर उप चुनाव लड़ेंगी। पीस पार्टी से पहले की तरह गठबंधन रहेगा। उन्होंने कहा कि भाजपा के खिलाफ सपा, बसपा और कांग्रेस को मिलकर चुनाव लड़ना चाहिए। यदि समर्थन से टिकट मिलता है तो जरूर भाजपा के खिलाफ चुनाव लड़ेंगे। डॉ. संजय ने दावा किया कि सपा प्रमुख की तरफ से लोकसभा उप चुनाव में समर्थन का भरोसा मिला है। डॉ. संजय ने सपा की सदस्यता ग्रहण करने से साफ इन्कार किया। साथ ही कहा कि सपा के समर्थन से चुनाव लड़ सकते हैं। और यदि समर्थन नहीं मिला तो पीस पार्टी और निषाद पार्टी का गठबंधन ही चुनाव लड़ेगा।
       गोरखपुर सदर लोकसभा सीट पर लगभग 5 लाख निषाद वोट है और निषाद पार्टी की निषादों पर मजबूत पकड़ है। बीजेपी ने गोरखपुर में सबसे ज्यादा नुकसान निषादों का ही किया है। गोरखपुर सदर लोकसभा सीट पर पिछले 28 सालों से बीजेपी का कब्जा है और इस बीच केंद्र और उत्तर प्रदेश में कई बार बीजेपी की सरकार रहीं हैं। और आज भी दोनों ही जगह इनकी ही सरकार है, लेकिन निषाद बाहुल्य इलाकों में विकास आज तक नहीं हुआ है। जापानी बुखार इंसेफेलाइटिस से हर साल सबसे ज्यादा मौतें भी इसी इलाके में होती हैं। आज निषाद पार्टी की बड़ती लोकप्रियता से भाजपा घवरायी हुई है।

हमारे प्रयास को अपना योगदान देकर और मजबूत करें

हमरी एंड्रॉइड ऐप मुफ्त में डाउनलोड करें

हमारे चैनल की मुफ्त में सदस्यता लें

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें

निषाद पार्टी न्यूज़

न्यूज़ वीडियो

निषाद इतिहास