आखिर 70 वर्ष बाद भी क्यों सबसे पिछड़े हैं हम ?

गोरखपुर, एकलव्य मानव संदेश रिपोर्टर के द्वारा गोररखपुर लोकसभा सदर प्रभारी इंजी. प्रवीण कुमार निषाद का लेख,  नवम्बर 2017। सामाजिक, राजनैतिक, शैक्षिक तथा आर्थिक विषमताओं का स्वयं व्यक्तिगत एहसास करना, वयापक रूप से सामाजिक विषमताओं का अनुभव करने की शुरुआत है। देश की आधे से अधिक आबादी रखने वाली जातियों का समूह जिनकी संसदीय लोकतंत्र में मुख्य भूमिका हो सकती है, मानवीय जीवन यापन के विभिन्न क्षेत्रों, अर्थात -नौकरी, व्यवसाय, राजनीति, शिक्षा आदि में आजादी के 70 साल बाद भी क्यों सबसे पीछे है हम? यह एक अनुत्तररित प्रश्न है? आज भी हमारे परिवार तो क्या गांव के गांव सरकारी नौकरियों सुविधाओं एवं संसाधनो से वंचित है। पिछड़ापन हमारे ऊपर थोपी हुई राजनैतिक व्यवस्था है और इस व्यवस्था को हम राजनीति से ही सही कर सकते है, जिस प्रकार यादव भाइयों ने, जाटव भाइयों ने सत्ता प्राप्त करके अपने लोगों का सामाजिक, राजनैतिक, शैक्षिक तथा आर्थिक विषमताओं को समाप्त कर दिया उसी तर्ज पर आज निषाद समुदाय के प्रेरणाश्रोत महामना डॉ संजय निषाद सभी निर्बलों, शोषितों का मान, सम्मान, स्वाभिमान, रोटी, कपड़ा, मकान, हक़, पद, अधिकार, राजनीति में हिस्सेदारी दिलाकर सामाजिक पिछड़ेपन को दूर करना करना है।
                            -----ई० प्रवीण कुमार निषाद
        प्रदेश प्रभारी/लोकसभा प्रभारी-गोरखपुर सदर
                     

हमारे प्रयास को अपना योगदान देकर और मजबूत करें

हमरी एंड्रॉइड ऐप मुफ्त में डाउनलोड करें

हमारे चैनल की मुफ्त में सदस्यता लें

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें

निषाद पार्टी न्यूज़

न्यूज़ वीडियो

निषाद इतिहास