आखिर तुम्हारा हिंदुत्व तब कहाँ मर गया था जब बैंडिट क्वीन फ़िल्म रिलीज हुई थी..?-भावना मीणा

एकलव्य मानव संदेश सोशल मीडिया रिपोर्ट से कु. भावना मीणा की पोस्ट को साभर प्रकाशित किया जा रहा है, 18 नवम्बर 2017। कुछ राजपूत और ब्राह्मण वर्ग के लोग पद्मावती का विरोध कर रहे है और अपील कर रहे है कि यह लड़ाई राजपूतों की नहीं सब हिंदुओं की है, इसलिए सभी दलित, आदिवासी और ओबीसी वर्ग के लोग भी उनका समर्थन करें, क्योंकि हम पहले हिन्दू हैं और बाद में मीणा, चमार, गुर्जर, यादव, जाट, जाटव, अहीर हैं।
मैं इन सवर्ण लोगों से पूछना चाहती हूँ कि आखिर तुम्हारा हिंदुत्व तब कहाँ मर गया था जब बैंडिट क्वीन फ़िल्म रिलीज हुई थी..?
इन मूर्खों को कौन समझाएं कि अब ST, SC और OBC वर्ग समझदार हो गया है, वो अब तुम्हारी बातों में नहीं आएगा। आज तक सवर्ण वर्ग के लोगों ने इन जातियों का इस्तेमाल अपने मतलब के लिए किया है और मुसलमानों से लड़ने के लिए किया है। मैं तुम सवर्ण वर्ग के लोगों से पूछना चाहती हूँ कि जब तुम लोग दलितों का शोषण करते हो तब तुम्हारा हिंदुत्व प्रेम कहाँ मर जाता है..? आखिर तुम्हें ST, SC और OBC वर्ग के लोग तब ही क्यों याद आते हैं जब तुम्हारा टकराव मुस्लिमों से होता है...? आरक्षण का विरोध करते वक्त हिंदुत्व कहाँ चल जाता है, जरा यह भी सोच लिया करो कि अपने ही पिछड़े हिन्दू भाई हैं इनका विरोध क्यों करें...? लेकिन तुम सवर्ण लोग सुधरोगे नहीं क्योंकि जहां तुम्हारा हित सधेगा वहां तुम दलितों, आदिवासियों और ओबीसी वर्ग के लोगों को हिन्दू कह दोगे और जहां अहित होगा वहां इन्हें दलित, आदिवासी और ओबीसी वर्ग के लोग कहकर इनका तिरस्कार करोगे...!
कु.भावना मीणा

हमारे प्रयास को अपना योगदान देकर और मजबूत करें

हमरी एंड्रॉइड ऐप मुफ्त में डाउनलोड करें

हमारे चैनल की मुफ्त में सदस्यता लें

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें

निषाद पार्टी न्यूज़

न्यूज़ वीडियो

निषाद इतिहास