ईवीएम ने बीजेपी जितायी और वेलेट पेपर ने इज़्ज़त लुटाई

अलीगढ़, एकलव्य मानव संदेश ब्यूरो रिपोर्ट, 2 दिसम्बर 2017। एक नज़र स्थानीय निकाय चुनावों के 1 दिसम्बर 2017 को घोषित परिणामों पर-
महापौर(ईवीएम)-कुल पद-16
निर्वाचन परिणाम-16
भाजपा जीती-14
हारी-2
नगर पंचायत अध्यक्ष(बैलेट पेपर)-कुल पद-438
निर्वाचन परिणाम-437
भाजपा जीती-100
भाजपा हारी-337
नगर पंचायत सदस्य(बैलेट पेपर)-कुल पद-5434
निर्वाचन परिणाम-5390
भाजपा जीती-662
भाजपा हारी-4728
नगर पालिका परिषद अध्यक्ष(बैलेट पेपर)-कुल पद-198
निर्वाचन परिणाम-195
भाजपा जीती-68
भाजपा हारी-127
नगर पालिका परिषद सदस्य(बैलेट पेपर)-कुल पद-5261
निर्वाचन परिणाम-5217
भाजपा जीती-914
भाजपा हारी-4303
       ईन परिणामों को देखकर लगता है अगर महानगरों में भी ईवीएम से चुनाव होते तो भाजपा की नाक पूरी तरह से कट जाती। क्योंकि नोट बंदी, जीएसटी, महंगाई, बेरोजगरी और गंदगी व जाम से सबसे ज्यादा अगर कोई परेशान है तो वह महा नगरों की जनता ही है। कई जगह वोटरों ने ईवीएम की शिकायत और प्रदर्शन भी किया कि वोट डाले जा रहें हैं किसी को और पड़ रहे हैं बीजेपी को। इस लिए कह सकते हैं कि भाजपा को मिला ईवीएम का सहारा है।
अब अगर इस देश में लोकतंत्र को बचाना है तो वोटिंग प्रक्रिया को पारदर्शी तरीके से करना होगा। अन्यथा निर्बलों को और निर्बल बनाने में ईवीएम इस बेईमान व्यवस्था का एक सहारा बन जाएगी।