सोनभद्र की कोयला खदानें और बिजली घर से क्षेत्र में हो रहा है जबरदस्त प्रदूषण

सोनभद्र, एकलव्य मानव संदेश ब्यूरो चीफ राम विलास निषाद की रिपोर्ट, 15 दिसम्बर 2017। उत्तर प्रदेश के जिला सोनभद्र में एन,सी,एल, कोयला खदानों से निकलने वाले प्रदूषित जल को रिहंद जलाशय में प्रवाहित किया जाता। जिससे पानी प्रदूषित हो रहा है। एन,सी,एल,के अतिरिक्त बिजली पावर प्लांट के चिमनियों के रिजेक्ट केमिकल्स वाटर को भी डिस्चार्ज चैनल से जलाशय में छोड़ा जाता है। इतना ही  नही सभी बिजली पावर प्लांट की एक जैसी स्थिति है। जल प्रदूषण के साथ चिमनी से निकलने वाला धुंए से भी वायु प्रदूषण बड़े पैमाने पर फैला हुआ है। आसमान में जहरीली हो गयी हवाएं  से स्वांस लेना भी दुर्भभ हो गया है। आसमान पूरी तरह से धुंधला हो गया है ।कोयला ट्रांसपोर्टिंग के समय ट्रेलर व हाइवा के साइलेंसर से  निकलने वाला धुंए से तो रोड पर राहगीरों का चलना फिरना दुर्लभ हो गया है। औड़ी अनपरा से शक्तिनगर जाने वाला मार्ग भयंकर पर्यावरण प्रदूषण की चपेट में है। जिले के जिम्मेदार अधिकारी व जिलाप्रशासन की लापरवाही से प्रदूषण की स्थित विस्फोटक बन गयी है।

हमारे प्रयास को अपना योगदान देकर और मजबूत करें

हमरी एंड्रॉइड ऐप मुफ्त में डाउनलोड करें

हमारे चैनल की मुफ्त में सदस्यता लें

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें

निषाद पार्टी न्यूज़

न्यूज़ वीडियो

निषाद इतिहास