सभी मूल वासी सेना के कार्यकर्ता 13 जनवरी को निषाद पार्टी के नव निर्माणाधीन कार्यलय पर बैठक में पहुंचे

गोरखपुर, एकलव्य मानव संदेश रिपोर्ट, 13 जानवरी 2018। एक ऐसा परिवर्तन जिसको करने के लिए नौजवानों ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया है। क्योंकि कोई जरूरी नही है जो गलती हमारे दादाओंने की वही गलती आज के तारीख मे हम भी करें। यदि वो सही होते तो आज हम यहां नही कहीं और होते। हम सब को आज अपनी जवानी संघर्षों के बीच नहीं खर्च करनी पड़ती। आज हमारा भी समाज राजा की गद्दी पर बैठा होता।
यदि आप चाहते हो उस अवसर को हम कामयाब करें। तो वो अवसर आपके दरवाजे पर खड़ा है। यदि चाहते हो आने वाली पीढ़ी आपको भगवान की तरह पूजे, तो आपको भी दलित नौजवानों की तरह संघर्ष करना होगा। जिन दलितों ने दलालो को छोड़ मान्यवर काशीराम जी के साथ झंडा उठाया, संघर्ष किया। आज उसके बेटे उन्हें भगवान की तरह पूज रहे हैं। आज वो भगवान को कम पूज रहे है अपने दादा पूर्खो को ज्यादा पूज रहे है।
   " संघर्षों मे जो पलता है इतिहास के पन्नों मे वही नाम दर्ज करता है। "
आज नौजवानों की जरूरत है इस परिवर्तन में। आज लोग दहशत में हैं नौजवानों से। इतिहास गवाह है कोई भी परिवर्तन को यदि नौजवान हाथ थाम लेता है तो उस परिवर्तन को होने में दुनिया की कोई ताकत नहीं रोक सकती।
जैसे देश के आजादी में 80 % नौजवान यदि भाग नही लिए होते तो आज देश आपके सामने आजाद नहीं होता। सबसे अधिक नौजवान जंग में कुदे थे। जैसे आज गरीब शोषित वर्ग के मान सम्मान स्वाभिमान की लड़ाई को नौजवानों ने थामा है । इस परिवर्तन को दुनिया की कोई ताकत नही रोक सकती ।
आप सभी मूलवासी सेना के कार्यकर्ताओं की एक विशेष बैठक 13 जनवरी 2018 को निषाद पार्टी के नव निर्माणाधीन कार्यालय पर होने जा रही है उसमें जरूर पहुंचें।
जय भारत, जय निषाद राज, वीर शहीद अखिलेश निषाद अमर रहे।
महामना मा. डॉ. संजय कुमार निषाद जिंदाबाद ।।

हमारे प्रयास को अपना योगदान देकर और मजबूत करें

हमरी एंड्रॉइड ऐप मुफ्त में डाउनलोड करें

हमारे चैनल की मुफ्त में सदस्यता लें

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें

निषाद पार्टी न्यूज़

न्यूज़ वीडियो

निषाद इतिहास