जो भी व्यक्ति RNEP का लेबल लगाकर यहाँ आया जनता ने उसे स्वीकार अपना हीरो माना

सुल्तानपुर, एकलव्य मानव संदेश के माध्यम से झगरू राम निषाद का संदेश, 23 जनवरी 2018। राष्ट्रीय निषाद एकता परिषद, निषाद पार्टी सुलतानपुर में जो भीड़ आपको दीखती है, वह किसी चेहरे, व्यक्ति विशेष की वजह से नहीं है। यह विचारधारा और उद्देश्य  के नाते है। जो भी व्यक्ति RNEP का लेबल लगाकर यहाँ आया जनता ने उसे स्वीकार किया, उसको अपना हीरो माना। अन्यथा अर्पणा किस चिड़िया का नाम है। इनको क्या मालूम ! इस भीड़ को अपने सामने  देखकर इस मुगालते में आ जाना कि यह निजी उपलब्धि है, यही पतन का कारण  है।
  विचारधारा और उद्देश्य के प्रति महामना डाक्टर संजय कुमार निषाद जी के लगन, त्याग, समर्पण का कमाल  देखिये यहाँ की जनता खुद अपनी जेब से खर्च करती है और पार्टी को चन्दा भी देती है फोन करने से भीड़ हो जाती है।
एक कमाल और जनता जिसका नाम सुनकर गालियों  की बौछार कर  देती थी, नाम सुनना नागवार था, उसे डाक्टर संजय कुमार निषाद जी ने अपने बगल में बैठाकर सम्मान के काबिल बना दिया और यहाँ की   50% जनता ने सम्मान देना शुरू कर दिया। लोगों ने माला इनको भी पहनाया, परिणाम स्वरूप घमंड हो गया।
आखिर कौआ की नज़र मैले पे ही रहती है!
परिणाम सामने है,
गोरखपुर में वही लोग थे जो सुलतानपुर में माला पहनाये थे और गाँव में भी वही लोग थे जो कभी जिन्दाबाद बोले थे !
फ़िर भी मुझे तो सबसे सहानुभूति है, मारकर गिरा देने वालों की मैं कड़े शब्दों से निंदा करता हूँ।


हमारे प्रयास को अपना योगदान देकर और मजबूत करें

हमरी एंड्रॉइड ऐप मुफ्त में डाउनलोड करें

हमारे चैनल की मुफ्त में सदस्यता लें

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें

निषाद पार्टी न्यूज़

न्यूज़ वीडियो

निषाद इतिहास