6 फरवरी 332 तहसील पर अपने आरक्षण के लिए, अपनी अपनी तहसील पहुचने की कृपा करें

अलीगढ़, एकलव्य मानव संदेश सोशल मीडिया रिपोर्ट, महेंद्र निषाद दिल्ली की वाल से
जय निषाद राज
6 फरवरी 332 तहसील
बंचित मछुआरा समाज के लिए इस से बेहतर मौका नहीं मिलेगा। आज देश एक और राजनितिक विकल्प की तरफ बढ़ रहा है। देश की सभी मुख्य राजनितिक पार्टिया अपने राजनितिक सतीत्व पर हैं।
70 वर्ष से लूट खशोत करने वाले लोग खुद को पवित्रता का प्रमाणपत्र बाँट रहे हैं। बसपा सपा कांग्रेश जैसी पार्टियां स्वयं को फिर स्थापित करने में लगी हैं। यह समय इनके लिए लड़ने मरने के स्थित के सामान है।
मछुआरा समाज ही एक ऐसा समाज है जो इनको जीवित कर सकता है।
अगर आप 70 वर्षो के शोषण को भूल कर फिर इनके करीब गए तो! एक दो नेता तो स्थापित हो जायेंगे।
पर फिर समाज 70 वर्ष पिछे चला जायेगा।
मछुआरा समाज आज राजनीती में पाचवां स्तम्भ के स्वर्णिम आधार के करीब है।
आज समाज के प्रत्येक सामाजिक, राजनितिक, शैक्षिक व गरिब व्यक्ति को इस आधार की नीव बननें की जरुरत है।
अब समाज को एक पार्टी को हरा कर दूसरी पार्टी के जिताने के क्रम से बाहर निकल कर, सपा, बसपा, कांग्रेस,भाजपा सभी को हरा कर खुद के राजनितिक विजय के उत्सव की तयारी करनी है।
हमारे समाज की संख्या बल में असीम ताकत है, पर इसका तुलनात्मक आकलन जरुरी है।
1-कांग्रेश की ताकत-5%मिश्रित कार्यकर्त्ता
2-सपा की ताकत-8% यादव समाज
3-बसपा की ताकत-8% जाटव समाज
4-भाजपा की ताकत-5% हिन्दू वादी सोच
यही इनके मुख्य वोट बैंक की ताकत है।
जिस दिन आप इनकी सुनना बंद कर देंगे, उस दिन से आप मजबूत होना शुरु हो जायेंगे।
पूरे देश में छुआरा वोट लगभग 18% है।
निषाद पार्टी उत्तर प्रदेश की सभी 332 तहसीलो पर 6 फरवरी से इसका प्रयोजन कर रही है।
कृपया इस पुनीत कार्य के लिए आप सभी 6 फरवरी को अपने अपने तहसील  पहुचने की कृपा करें, अपने आरक्षण को प्राप्त करने के तहसील घेरो कार्यक्रम में।