सावधान !?! डॉ संजय निषाद को गाली देने वाले स्वीकार कर रहे हैं, कि उनको भाजपा, गाड़ी और मोटी रकम ऑफर कर रही है

अलीगढ़, एकलव्य मानव संदेश ब्यूरो रिपोर्ट, 27 फरवरी 2018। गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव में निषाद पार्टी के मुखिया की ऐतिहासिक चाल से भाजपा बहुत ही घबराहट में है और उसे अपनी हार स्पष्ट दिखाई दे रही है। अपनी लाज बचाने के लिए भाजपा ऐसे निषादों को अपना मोहरा बना रही है जो निषाद पार्टी के मुखिया डॉ संजय कुमार निषाद को गालियाँ दें और कोष सकें।
एकलव्य मानव संदेश से ऐसे कई नेताओं की बात डायरेक्ट या इनडाइरेक्ट हुई तो उनका कहना है कि हम डॉ संजय कुमार निषाद को अगर गाली देना बंद कर दें तो हमको क्या मिलेगा। आज भाजपा हमको मनचाही गाड़ी और हमारे अपने काम करने के लिए तैयार है और कुछ कार्य कर भी चुकी है। तो हम अब भाजपा के लिए ही प्रचार करेंगे। ये गुमराह निषाद गोरखपुर के तो कुछ ही हैं, लेकिन दूसरे जिलों के ज्यादा हैं।  
इसलिए निषाद पार्टी, पीस पार्टी और समाजवादी पार्टी को पूरे गोरखपुर सदर लोकसभा क्षेत्र में अपनी पैनी नज़र इनकी गतिविधियों पर रखनी होगी। आज कल इन गालीवाज़ और दलाल नेताओं को सबसे ज्यादा परेशानी गोरखपुर के अधिकांश एकदूसरे के विरोधी नेताओं की एकजुटता ने सबसे ज्यादा परेशान किया हुआ है। अब ये लोग एकजुट हुए नेताओं को भी कोसने लग गये हैं। इनमें से कुछ का कहना है कि जीत भाजपा की ही होगी चाहे सभी वोट क्यों न संयुक्त प्रत्याशी को मिल जाएं यानी गड़बड़ी का सहारा भाजपा लेने से नहीं चूकेगी।
आज पहली बार उत्तर प्रदेश के इतिहास में गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव 80 प्रतिशत वनाम 20 प्रतिशत का होने जा रहा है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ नाथ भी लोगों को हार पर इलाके में विकास रोकने की धमकी अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं की सभा मे 26 फरवरी को गोरखपुर में दे चुके हैं। योगी जी से कोई ये पूछने वाला है क्या आपने 5 कार्यकाल में विकास कराए। और अगर विकास केंद्र सरकार नहीं करती है, प्रदेश सरकार करती है तो 1 साल होने को है अपने मुख्यमंत्री बनकर इस क्षेत्र के ग्रमीण इलाकों में कितने विकास कराए और केंद्र सरकार करती है तो आपकी केंद्र सरकार ने आपके सांसद रहते ग्रमीण इलाके में कितने विकास कार्य कराए शायद ज़ीरो। योगी जी आपको विकास की नहीं धर्म की घुट्टी पिलानी आती है और उसकी रक्षा आप समाज द्रोही लोगों को जो अपनी जाति और समाज के नेतृत्व को गाली दे सकें उनको इस्तेमाल करके करते हो। इसलिए पिछले कुछ महीनों से ऐसे समाज द्रोहियों को भाजपा का संरक्षण मिल रहा है। लेकिन अब गोखपुर के निषाद समझ चुके हैं कि हमको प्रदेश के साथ देश को भी दिखाना है कि जन विरोधी सरकार को उखाड़ फेंकने का माद्दा हम रखते हैं।