शिद्धार्थनागर में चालीस साल से अभी तक नहीं मिला बांध निर्माण में गई जमीन का

सिद्धार्थनगर, एकलव्य मानव संदेश रिपोर्टर, प्रदीप कुमार निषाद की रिपोर्ट, 20 फरवरी 2018। सिद्धार्थनगर जिले में बांध निर्माण में किसानों की ली गई जमीन का मुआवजा सरकार व विभाग द्वारा 40 वर्षों के बाद भी नहीं दिया गया है।जिससे किसान भूमिहीन होकर फाकाकशी करने को अभिशप्त हैं। जिले के नौगढ़ तहसील के बूढ़ी राप्ती नदी के दाएं तट पर 40 वर्ष पूर्व ककराही गुनाह बांध के निर्माण में कटेही, सुपा घाट, बंजारा खुर्द, गुनाह, कपिया, रमपुरवा के सैकड़ों किसानों की जमीनी बांध में ली गई। किसानों ने मुख्यमंत्री और सिंचाई मंत्री को पत्र भेजकर सर्किल रेट से 4 गुने दर से मुआवजा की मांग सरकार से की है
 साथ ही साथ ही यह भी मांग की है, कि बंधा निर्माण में वास्तव में जिन किसानों की जमीनी ली गई है, उन किसानों का मौजूदा समय में भौतिक सत्यापन व स्थलीय सर्वे लेखपाल या विभागीय अमीन से करा कर करा कर बाध में गए उनके रकबा के अनुसार के अनुसार मुआवजे का का भुगतान किए जाने की मांग किसानों ने सरकार से की है। किसानों में राम नेहा लोधी, पंचम, हरिहर, विश्राम, सूरज, सुखराज, सुखलाल, हुसैन,
अर्जुन जानकी आदि सैकड़ों किसानों के महजरनामा  पर हस्ताक्षर रहे।