शिक्षिका के आरोप से आहत प्रधानाध्यापक ने जहर खाकर दी जान

ओबरा, सोनभद्र, एकलब्य मानव सन्देश ब्यरो चीफ राम विलास निषाद की रिपोर्ट 9 फरवरी 2018। ओबरा (सोनभद्र) के अरंगी जूनियर हाइस्कूल के प्रधानाध्यापक अवधबली (54) ने बुधवार को जहर खाकर खुदकुशी कर ली। मिर्जापुर के भवानीपुर निवासी अवधबली ओबरा के सेक्टर दस स्थित आवास से बुधवार को रेणुकापार कड़िया विद्यालय जाने वाले रास्ते पर सुबह करीब 10 बजे  इलाहाबाद बैंक के पास अचेत अवस्था मे गिरे पड़े थे। देखते ही लोगो में सनसनी फैल गई। ग्रामीणों ने जानकारी पुलिस को दी। उन्हें ओबरा परियोजना हॉस्पिटल ले जाया गया, जहाँ चिकित्सकों ने उन्हेंं मृत्य धोषित कर दिया। खबर लगते ही परिवार के सदस्य और अन्य लोग अस्पताल पहुंच गए।
अवधबली की जेब से सूइसाइड नोट मिला। परिवार के लोगों ने पुलिस को शव को उठाने से रोक दिया। मांग की मृतक के सुरसाइड नोट के आधार पर और पत्नी नीलम सिंह की तहरीर पर तत्कालीन खण्ड शिक्षाधिकारी सुनील सिंह (एनपी आरसी ) मनीष श्रीवास्तव, शिक्षिका श्वेता गुप्ता और हेमलता के खिलाफ पुलिस पहले एफआईआर दर्ज करे। पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर शव को पोस्टमार्टम के भेज दिया।
        पुलिस के मुताविक आरंगी में तैनात शिक्षिका श्वेता गुप्ता कई-कई दिन विद्यालय में अनुपस्थित रहकर गैरहाजरी न करने व छुट्टी मंजूर करने की दबाव बना रही थी। प्रधानाध्यपक अवधबली के इनकार करने पर शिक्षिका ने देख लेने की धमकी दी थी। 5 फरवरी को शिक्षिका ने छेड़छाड़ का ऑनलाइन मुकदमा दर्ज कराया था। परिवार के मुतबिक वह इसके बाद परेशान रहे। सुरसाइड नोट में लिखा है कि  शिक्षिका श्वेता गुप्ता के सहयोग में कुछ अन्य महिला शिक्षकों ने फोन से छुट्टी के लिए दबाव बनाया। चोपन बीईओ कार्यालय के एक व्यक्ति ने ऑनलाइन एफआईआर का सुझाव भी महिला शिक्षकों को दिया।

पूर्व के बीइओ ने महिला शिक्षक को पूरी छूट दी थी।