इलाहाबाद में तोड़ी बाबा साहब डॉ., भीमराव आंबेडकर की प्रतिमा

जौनपुर, एकलव्य मानव संदेश ब्यूरो चीफ प्रदीप कुमार निषाद की विशेष रिपोर्ट, 31-03-2018। देश में महापुरुषों की मूर्ति तोड़ने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा रहा है। उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद शहर में कुछ अराजक तत्वों ने संविधान निर्माता डॉ. भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा को क्षतिग्रस्त कर दिया है। झूंसी में त्रिवेणीपुरम के पास देर रात किसी समय अराजक तत्वों ने बाबा साहेब अंबेडकर की मूर्ति के सिर को तोड़ कर अलग कर दिया। इस घटना से क्षेत्र में तनाव फैल गया है। 
             त्रिपुरा में लेनिन की प्रतिमा तोड़े जाने के बाद मूर्तियों के टूटने का सिलसिला रूक नही रहा है। इलाहाबाद के झूंसी स्थित त्रिवेणीपुरम इलाके मे सुबह जब लोगों ने प्रतिमा टूटी हुई देखी तो पुलिस को मामले की सूचना दी गई। अराजक तत्वों ने अंबेडकर की प्रतिमा के ऊपरी हिस्से को क्षतिग्रस्त किया है।
प्रतिमा तोड़े जाने के बाद इलाके में तनाव का माहौल है। प्रशासन ने एहतियात के तौर पर घटना स्थल के आस-पास पुलिस बल तैनात कर दिया है। वहीं प्रतिमा तोड़े जाने की घटना पर रोष जताते हुए फूलपुर के सपा सांसद नागेंद्र पटेल धरने पर बैठ गए हैं। सपा सांसद ने प्रतिमा तोड़े जाने की घटना की जांच कर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है।
इससे पहले अंबेडकर प्रतिमा तोड़े जाने से नाराज लोगों ने हंगामा करना शुरू कर दिया। भारी संख्या में मौके पर पहुंची पुलिस ने किसी तरह लोगों को समझा-बुझा कर शांत किया। 
आपको बता दें कि इलाहाबाद के झूंसी में त्रिवेणीपुरम नया इलाका बसाया जा रहा है। यहां नई बिल्डिंग और रिहायशी मकान बनाए जा रहे हैं। इस इलाके में पार्क के किनारे अंबेडकर की मूर्ति लगाई गई थी।
घटना को लेकर लोगों में आक्रोश व्याप्त है और पुलिस आसपास के सीसीटीवी कैमरे की फुटेज में अराजक तत्वों को तलाश रही है। गौरतलब है कि देशभर में पिछले कई दिनों से मूर्तियां तोड़े जाने का क्रम चल रहा है। मामले में थानाध्यक्ष झूंसी ने बताया कि किसी ने जानबूझकर मूर्ति तोड़ी है और माहौल बिगाड़ने का प्रयास किया है। आसपास के घरो में लगी सीसीटीवी कैमरे की रिकॉर्डिंग देखी जा रही है। जल्द ही यह पता चल जाएगा की मूर्ति किसने तोड़ी है। मूर्ति तोड़ने वालों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी। मूर्ति बदलवाने की तैयारी हो रही है। फिलहाल मूर्ति तोड़ने की घटना के पीछे कौन है इसका पता नहीं चल पाया है।
वहीं अराजक तत्वों की गिरफ्तारी और प्रशासन द्वारा तत्काल मूर्ति लगवाने को लेकर भारी संख्या में बहुजनों से इकट्ठा होने की अपील की गई है।घटनास्थल पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।
यूपी के सिद्धार्थनगर में भी शुक्रवार रात अंबेडकर की मूर्ति तोड़ी गई थी।  स्थानीय लोगों ने अपराधी के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए प्रदर्शन किया था। मूर्ति तोड़े जाने के बाद से ही सिद्धार्थनगर में तनाव बना हुआ है। बता दें कि इससे पहले भी कई बार बाबा साहब अंबेडकर की मूर्ति को निशाना बनाया गया था। एटा के थाना जलेसर कस्बे में अंबेडकर प्रतिमा को अराजक तत्वों ने तोड़ दिया था। इसके बाद प्रतिमा टूटी हुई देखकर जाटव समाज के लोग भड़क उठे। सूचना मिलते ही पुलिस की टीम मौके पर पहुंची।लोगों को समझाकर हालात काबू में किए।
इससे पहले आजमगढ़ में भी संविधान निर्माता बाबा साहब अंबेडकर की मूर्ति को निशाना बनाया गया था। जिले के थाना अहरौला के गांव राजापट्टी में लगी बाबा साहब की प्रतिमा बीती रात तोड़ दी गई थी। ग्रामीणों ने सुबह जब मूर्ति टूटी हुई देखी तो वो आक्रोशित हो गए। इसके बाद घटना स्थल पर भारी संख्या में ग्रामीण जमा हो गए। योगी और मोदी राज में जातिवादी अपराधियों के हौसले बुलंद हैं और इसी क्रम में 2019 के लोकसभा चुनाव से देश के माहौल को कहीं हिन्दू मुस्लिम, कही दलित पिछड़ा विवाद और कहीं महापुरुषों की मूर्तियों को तोड़कर खराब करने की चलें चली जा रही हैं। केन्द्र और प्रदेश सरकार के पास लोगों के कल्याण के लिए कोई भी योजना नहीं है। किसानों की समस्याओं और बेरोजगारी, मेंहगाई से ध्यान हटाने के लिए इस प्रकार की घिनौनी हरकत की जा रही हैं।

हमारे प्रयास को अपना योगदान देकर और मजबूत करें

हमरी एंड्रॉइड ऐप मुफ्त में डाउनलोड करें

हमारे चैनल की मुफ्त में सदस्यता लें

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें

निषाद पार्टी न्यूज़

न्यूज़ वीडियो

निषाद इतिहास