सपा ने प्रधानमंत्री को घेरते हुए कहा कि वह न देश संभाल पा रहे हैं न धरोहर

बरेली, एकलव्य मानव संदेश रिपोर्टर राज कुमार कश्यप की रिपोर्ट, 30 अप्रैल 2018। लालकिला विवाद को लेकर बरेली में समाजवादी पार्टी ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को घेरा। सपा के जिला प्रवक्ता हैदर अली ने लाल किला को डालमिया ग्रुप को दिए जाने पर दुःख व्यक्त किया। सोमवार को हैदर अली के नेतृत्व में समाजवादी पार्टी के युवा फ्रंटल संगठनों ने भारत सरकार द्वारा लाल किला डालमिया ग्रुप को किराए पर देने का जबरदस्त विरोध किया। पार्टी के लोगों ने लाल किला की आकृति व ताज महल के बैनर एक ठेले पर रख रैली निकाली।
समाजवादी पार्टी कार्यालय पर एकत्र होकर कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बड़े व्यापारी की संज्ञा देते हुए जुलूस की शक्ल में देश को मत बेचो, नरेंद्र मोदी, के नारे लगाते हुए जुलूस निकाला गया।
        अयूब खां चौराहे पर जिला प्रवक्ता हैदर अली ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि नरेंद्र मोदी जब से हिंदुस्तान के प्रधानमंत्री बने हैं तब से भारत के व्यापारिक घरानों को ही लाभ पहुँचा रहे हैं। उन्होंने कहा कि देश की गरीब जनता का खून चूसा जा रहा है। युवाओं को रोजगार नहीं मिल रहा, किसान परेशान है। और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के मान सम्मान का प्रतीक लाल किले को अपनी व्यापारिक गतिविधियों में शामिल कर उसका भी व्यापारिक सौदा डालमिया ग्रुप से कर दिया। उन्होंने कहा कि हेरिटेज बिल्डिंग अडॉप्ट कार्यक्रम के तहत नरेंद्र मोदी ताजमहल का भी सौदा करना चाहते हैं। उसकी भी तैयारी कर ली गई है। धर्म के प्रतीक कोणार्क मंदिर और सती धाम की भी चर्चा चल रही है कि वह भी व्यापारिक घरानों के अधीन किये जायेंगे। आगे कहा कि जो व्यक्ति स्वयं को प्रधान सेवक कहता था वह भारत को बेचने का कार्य कर रहा है। उन्होंने कहा कि वह न देश को संभाल पा रहे हैं और न ही देश की धरोहरो को।
     सपा नेता मयंक शुक्ला ने कहा कि आज हम अपनी धरहरो को दूसरों के हाथों गिरवी होते हुए देख रहे हैं। इससे यह प्रतीत होता है देश का भविष्य विश्व व्यापारिक घरानों के अधीन करके नरेंद्र मोदी जी देश को भी गिरवी डालने का कार्य कर रहे हैं। युवजन सभा के जिलाध्यक्ष वैभव गंगवार ने कहा कि इससे ज्यादा शर्मनाक कुछ नहीं हो सकता कि जिस भारत को आजाद कराने के लिए लाखों सपूतों ने बलिदान दिया और भारत के शीर्ष लाल किले को गिरवी डालकर आने वाले 15 अगस्त को प्रधानमंत्री उस पर व्यापारी से अनुमति लेकर झंडा फहराएंगे।
समहवादी लोहिया वाहिनी के जिलाध्यक्ष सुनील यादव, जोगिंदर पटेल, ह्रदयेश यादव, गौरव यादव, अरुण यादव, राशिद खान, इश्तियाक, अशोक यादव, विनोद, फ़ैज़, शिवम शर्मा, प्रवीण, रियाज़, महेश गुप्ता, भुवनेश कश्यप, रविंद्र श्रीवास्तव, अमित गंगवार, द्रोण कश्यप, राम गोपाल, आदि विरोध करने वाले रहे।