सीएम की कानून व्यवस्था बनी मजाक

फतेहपुर, एकलव्य मानव संदेश रिपोर्टर राम बहादुर निषाद की रिपोर्ट, 3 अप्रैल 2018। योगी आदित्यनाथ ने कानून व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए बड़ा फरमान जारी करते हुए कहा है कि कानून को मजाक समझने वालों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी। लेकिन फतेहपुर शहर के आबू नगर मोहल्ले में स्थित 780 नंबर की विवादित जमीन पर अवैध कब्जे को लेकर भूमाफियाओं द्वारा कल दिनदहाड़े की गई एक युवक की हत्या का मामले का पुलिस ने पटाक्षेप भी नहीं किया तब तक ललौली थाना क्षेत्र के देव गांव मूसेपुर निवासी एक दलित परिवार के घर में, दबंगों ने मुकदमे की पैरवी करने से खुन्नस खा कर आग लगा दी। जिसके चलते उसके घर में रखी हजारों रुपए की संपत्ति समेत अन्य सामान जलकर खाक हो गये।जानकारी के अनुसार, ललौली थाना क्षेत्र के देव गांव मूसेपुर निवासी स्वर्गीय सहायकों के पुत्र दिनेश कुमार ने पुलिस अधीक्षक समेत प्रदेश के मुख्यमंत्री को भेजे गए शिकायती प्रार्थना पत्र के माध्यम से अवगत कराते हुए बताया कि वह हरिजन बिरादरी का व्यक्ति है तथा मेहनत मजदूरी करके अपने परिवार का भरण पोषण करता है। दबंगों की दबंगई से पीड़ित व्यक्ति ने बताया कि वह अपनी पैतृक जमीन पर मकान बनाकर बुजुर्रों के समय से रहता चला आ रहा है।
 पीड़ित ने बताया कि मकान की सहन की जमीन पर गांव के ही हरिशंकर कुशवाहा व राजू प्रजापति कब्जा करने की नियत से रहते हैं और उक्त ने दबंगई के बल पर अपने जानवरों की चढ़ाई आदि का निर्माण भी कर लिया है। उपरोक्त लोगों की दबंगई के विरुद्ध थाना ललौली में उसने लिखित शिकायत भी कई बार की। किंतु पुलिस द्वारा उसके न्याय नही मिला। ललौली पुलिस द्वारा न्याय ना किए जाने से कुपित होकर उसने पुलिस अधीक्षक से लेकर सुबे के मुखिया से न्याय की गुहार लगाते हुए बताया है कि इलाकाई पुलिस दबंगों से सांठगांठ करके न्याय करने में बाधा उत्पन्न कर रही है। उपरोक्त पीड़ित व्यक्ति के भेजे गए शिकायती प्रार्थना पत्र के माध्यम से वह अपनी पैतृक जमीन पर हो रहे कब्जे को बचाने हेतु न्यायालय सिविल जज फतेहपुर में वाद संख्या 16/18 दिनांक 08/01/2018 को बावत स्थाई निषेधाज्ञा कवच आयोजित करवाया है !                                              वाद दाखिल करने की हिम्मत रखते हुए बाबू पुत्र सुखदेव, जगदीश पुत्र चेतू, हरिश्चंद्र पुत्र कल्लू पाल, भूरा पाल महावीर आए दिन गाली गलौज करते हैं तथा इस बात की धमकी देते हैं कि तुम गलत हो इस गांव को छोड़कर चले जाओ नहीं तो पूरे परिवार को समाप्त कर दिया जाएगा। पुलिस की इतनी क्षमता नहीं है कि वह हमारा कुछ बिगाड़ सके। पीड़ित ने बताया कि वह अपने मुकदमे की पैरवी करने जब न्यायालय जाता है तो उपरोक्त दबंग रास्ते में रोककर उसको मुकदमे की पैरवी ना करने की धमकी देते हैं और चेतावनी देते हुए यह भी कहते हैं कि यदि तुमने मुकदमे की पैरवी किया तो तुम्हारे घर को श्मशान में तब्दील कर देंगे।
 पीड़ित ने जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, मुख्यमंत्री से न्याय की गुहार लगाते हुए कहा है कि दबंगों के खिलाफ यदि कार्रवाई नहीं की गई तो गांव से पलायन करने को मजबूर होगा।