अगर एससी, एसटी, ओबीसी वर्ग ने यह काम कर दिया तो ब्राह्मणों की उल्टी गिनती शुरू हो जाएगी

गाज़ीपुर (Gazipur), एकलव्य मानव संदेश (Eklavya Manav Sandesh) सोशल मीडिया रिपोर्ट, 15 मई 2018। जरा गौर से पढ़ें-
पिछले दिनों भोपाल में ब्राह्मणों ने 05 हवनकुंडों में आरक्षण खत्म करने की आहुतियां दी है, यानि एससी, एसटी, ओबीसी का जीवन बरबाद करने के लिए 51 पंडितों ने हवन किया-
उक्त निंदनीय घटना के विरोध में एससी, एसटी, ओबीसी यानी भारत की मूलजातियां अर्थात द्रविड़ो से विनम्र अनुरोध है कि :-
ब्राह्मणों अर्थात आर्यों अर्थात विदेशियों का सभी स्तरों पर विरोध किया जाए...
1. अपनें नवजात बच्चों का नाम ब्राह्मणों से पूछने पर पू्र्ण प्रतिबंध लगाया जाएं....
2. शादी, गृहप्रवेश एवं अन्य पूजापाठ ब्राह्मणों से करवाना शत्-प्रतिशत बंद किया जाएं....
3. ब्राह्मणों को मंदिरों में दान-अनुदान कतई नहीं दिया जाएं....
4. ब्राह्मणों की राजनीतिक पार्टियों के सदस्य नहीं बनें....
5. ब्राह्मणों की पार्टियों व ब्राह्मणवादी विचारधारा वाली पार्टियों का खुलकर विरोध करें....
 6. ब्राह्मण उम्मीदवारों को किसी भी कीमत पर मतदान ना करें....
*अगर एससी, एसटी, ओबीसी वर्ग ने यह काम कर दिया तो ब्राह्मणों की उल्टी गिनती शुरू हो जाएगी....*

शुभ, अशुभ, स्वर्ग, नर्क, पुनर्जन्म, भाग्य, भूत-प्रेत, भगवान, तैंतीस करोड़ देवी-देवता, कर्मकांड, ठगविद्या, ज्योतिष और इन सब की चर्चा से भरे ग्रंथ, ऊँच नीच का भेदभाव, छूआछूत, श्रद्धा, अंधश्रद्धा, पत्थर की मूर्तियों में छू मंतर करके ईश्वर की प्राण प्रतिष्ठा की कला, यही सब तो ब्राह्मणों का आविष्कार है। 
इन्हीं कारणों से भारत का बंटाधार है। और सबसे ताज्जुब की बात तो यह है कि सत्तर सालों से भारत में इन्हीं छू मंतर वालों की सरकार है।
शूद्र 85% होकर भी शासित और शोषित है-
शूद्रों, ब्राह्मणों को दान, मान, मतदान देना  बंद करो-
और ब्राह्मणमुक्त विधान सभाएं, ब्राह्मणमुक्त संसद का नारा बुलंद करो-
शूद्र समाज को अपने देश के लिए, अपने बच्चों के उज्वल भविष्य के लिए, यह तय करना ही होगा, कि ग्राम पंचायत से लेकर संसद तक हमारा एक भी वोट किसी ब्राह्मण या ब्राम्हणवादी को नहीं मिले।

तुम हमारा आरक्षण हटाने के लिए यज्ञ करो, विधायिका, कार्यपालिका, न्यायपालिका और मीडिया पर कब्जा करके हर जगह से हमारा प्रतिनिधित्व खत्म करो, विश्व विद्यालयों में हमारी शिक्षा और नौकरी के रास्ते बंद करो।

हम संसद, विधान सभाओं, और अन्य चुनावों में ब्राह्मणों का बहिष्कार करके ब्राह्मण मुक्त संसद, ब्राह्मण मुक्त विधान सभाएं बनायेंगे ।
(G.S.Kashyap की वाल से साभार लिया गया)

Comments

हमारे प्रयास को अपना योगदान देकर और मजबूत करें

हमरी एंड्रॉइड ऐप मुफ्त में डाउनलोड करें

हमारे चैनल की मुफ्त में सदस्यता लें

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें

निषाद पार्टी न्यूज़

न्यूज़ वीडियो

निषाद इतिहास