स्कूल वाहन पर जारी निर्देश से हड़कम्प

जौनपुर (Jaunpur), एकलव्य मानव संदेश ( Eklavya Manav Sandesh) ब्यूरो चीफ प्रदीप कुमार निषाद कि विशेष रिपोर्ट, 10मई2018।जौनपुर जिले में अब बिना मानक के स्कूल वैन नहीं चलने दी जाएगी। बुधवार को कलेक्ट्रेट सभागार में स्कूल प्रबंधकों व प्रधानाचार्यों संग बैठक कर जिलाधिकारी अरविंद मलप्पा बंगारी ने निर्देशित किया है कि सुरक्षा मानकों का पालन करने वाले वाहन ही छात्रों को लाने और ले जाने के लिए लगाए जाएंगे। उल्लंघन करने पर होगी कड़ी कार्रवाई ।
     आगे उन्होंने कहा कि, जिम्मेदार लोग स्कूल को नियमानुसार चलाएं। सुप्रीम कोर्ट द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का सख्ती से पालन हो। एआरटीओ सौरभ कुमार ने प्रोजेक्टर के माध्यम से जानकारी देते हुए कहा कि वाहन का शैक्षणिक संस्था के नाम से पंजीकरण होना अतिआवश्यक है। निजी ऑपरेटर भी अपने वाहन को स्कूल मानक के अनुसार पंजीकरण कराके प्रयोग कर सकते हैं।
*वाहन के आगे व पीछे मोटे बड़े अक्षरों में स्कूल बस व आन स्कूल ड्यूटी लिखा होना चाहिए। 
*उस पर स्कूल नाम तथा टेलीफोन नंबर स्पष्ट लिखा होना चाहिए।  
*स्कूल की कोई भी बस सवारी नहीं ढोएगी। 
*वाहन की अधिकतम आयु 15 वर्ष होगी। 
*बस में बच्चों की नाम सूची, पता, ब्लड ग्रुप तथा रुट चार्ट उपलब्ध रहना आवश्यक है। 
*चालक के अलावा अनुभवी पुरुष एवं 50 प्रतिशत से ज्यादा छात्राओं की उपस्थिति में महिला सहायक तैनात रहेंगी।
*चालक तथा सहायक को ड्यूटी के समय निर्धारित ड्रेस पहनना अनिवार्य है। 
*बस का रंग गोल्डेन येलो विथ ब्राउन ब्लू लाइनिंग होना चाहिए। 
*सीटिंग क्षमता के अनुसार प्रत्येक बस में अग्निशमन यंत्र अनिवार्य रुप से उपलब्ध रहेंगे। 
*फस्ट एड बाक्स रखना अनिवार्य है। 
*अधिकतम गति सीमा 40 किमी प्रति घंटा रहेगी। 
*आपातकाल परिस्थिति में बस का चालक अथवा सहायक स्कूल अथारिटी को सूचित करेगा। 
*प्रेशर हॉर्न तथा टोनल साउंड सिस्टम प्रतिबंधित होगा।
*खिड़की के शीशे और चैनल इस प्रकार लगे हों कि बच्चे अपनी गर्दन या सिर बाहर न निकाल सके। 
*नगर मजिस्ट्रेट योगानंद पांडेय ने कहा कि चालक बच्चों को जहां से उठाएं वहीं सही सलामत छोड़ें।