जिन्ना(Jinnah) गया क़ब्र में, AMU से फोटो के नाम पर खड़े किए गए संघी(RSS) तमाशे का एक और सच(Truth)

अलीगढ़ (Aligarh) एकलव्य मानव संदेश (Eklavya Manav Sandesh) रिपोर्ट, 4 मई 2018। जिन्ना(jinnah) गया क़ब्र में, AMU से फोटो के नाम पर खड़े किए गए संघी(RSS) तमाशे का एक और सच(Truth)। एक हकीकत तो ये बताई थी कि बीजेपी के भृष्ट नेताओं की नज़र मुम्बई के जिन्ना हाउस पर है। लेकिन एक और उससे भी बड़ा सन्देह सामने आया है :-
1- तीन दिन पहले तक बीजेपी(BJP) के प्रवक्ता इस विवाद पर कोई स्टैंड नही ले रहे थे, लेकिन जब प्रोपर्टी का खुलासा हुआ और किसी ने फोटो हटाने का विरोध नही किया तो कल अचानक बदल गए और गालियों की शुरुआत कर दी।
2- संघियो की असलियत तो सबके सामने आ रही हैं, जो उन्हें कब्र से भी नीचे दफ़न होने को मजबूर कर देगी।
3- पाकिस्तान में काफी समय से शहीद भगत सिंह को कंनूनन निर्दोष करार देने और स्मारक बनाने की मांग उठ रही हैं
4- इस सम्बन्ध में दायर रिट याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने अपने पास मंगवा लिया है तथा पुरानी फाइल्स खुल गई है।
5- शादीलाल और सुजान सिंह का नाम तो सब जानते हैं, लेकिन बाकी छह गवाहों की पोल खुली नहीं थी।
6- अपने किये दुष्कर्मो के डर से संघियो के माथे पर पसीने छूट रहे हैं। क्योकि सभी कागज़ात सार्वजनिक होते ही ये नँगे भी हो सकते हैं।
7- इसी दहशत से हो सकता है कि बीजेपी के प्रवक्ता कल से चीख रहे है कि "जब बटवारा हो चुका है तो पुरानी बातों को दफ़न करो"
8- क्या संघियो को अपने लोगो के नाम का खुलासा होने का डर सता रहा है ?
9- अटल बिहारी की अंग्रेज़ो के हक में दी गई गवाही तो सब जानते हैं, तो क्या भगत सिंह की शहादत की साज़िश में भी इनका हाथ था ?
10- जिन्नाह अगर गुनाहगार है तो सावरकर और श्यामाप्रसाद मुखर्जी के गुनाह भी कम कैसे हो सकते हैं।
(जनार्दन सहानी की वाल से साभार लिया गया)