जौनपुर के पांच गाँवों में हुईं आरक्षण हेतु अपील


जौनपुर(Jaunpur), एकलव्य मानव संदेश (Eklavya m
Manav Sandesh), ब्यूरो चीफ प्रदीप कुमार निषाद की विशेष रिपोर्ट-2 जून 2018। आज लोकसभा जौनपुर की वि.स.सदर की ग्रामसभा बशीरपुर, संदहा, हड़ही, तिवारिपुरा और मुड़ैला में राष्ट्रीय निषाद एकता परिषद और निषाद पार्टी जिला कमेटी द्वारा आरक्षण मुद्दे पर अपील करते हुए बताया गया कि, वर्तमान सत्तासीन लोग अपने अनुसार, अपने समाज के अनुसार, संविधान को ताक पर रखकर, आर्थिक आधार पर आरक्षण की मांग कर रहे हैं। क्या उनकों यह नही पता है कि मछुआ समुदाय की 17 अति पिछड़ी जातियों को मझवार के नाम से संविधान में अनुसूचित जाति का दर्जा देकर, आरक्षण द्वारा संविधान ने इनको समाज की मुख्य धारा से जोड़ने का कार्य किया है। किन्तु अफसोस है कि इस समाज को आजादी के इतने वर्षों बाद भी इसका हक अधिकार नही मिला है। अब मछुआ समुदाय की सभी उप जातियों को आने वाली 7 जून 2018 को पूरा प्रदेश बन्द कर यह दिखा देना चाहिए कि मछुआरों का वोट लेकर सियासत करने वालों अब तुम्हारा खेल खत्म हुआ। हम प्रदेश भर में प्रत्येक जिला मुख्यालयों को जाम कर देंगे। प्रत्येक अधिकारी कर्मचारी को उसके ही आफिस में बन्द कर देंगे और फिर देखेंगे कि प्रदेश का मुखिया जो कभी सांसद होता था तो उसकी जुबान तलवार जैसी चलती थी आैर आज वही गूँगा और बहरा सा कैसे हो गया है।
      हम मछुआ समुदाय की सभी उप जातियों, संगठनों, बुद्धिजीवियो, युवाओं, बुजुर्गो, माताओं, बहनों से आग्रह करते हैं कि, 07 जून 2018
को राष्ट्रीय निषाद एकता परिषद व निषाद पार्टी के अगुआ जिन्होने इस समुदाय को आरक्षण शब्द से रूबरू कराया, के तत्वावधान में हो रहे प्रदेश बन्द में अपनी भागेदारी सुनिश्चित करें। जिससे समाज को उसका हक और अधिकार प्राप्त हो सके। आने वाली पीढी हमेशा आपकी आभारी रहेगी।
इस अवसर पर मौजूद रहे सर्वश्री डा.संदीप कुमार निषाद (जि.महासचिव/प्रभारी वि.स.सदर), साहबलाल गौतम (जि.सचिव), डा.इंद्रजीत बिंद (अध्यक्ष वि.स.सदर), दीपचंद निषाद, बुधीराम निषाद, डा.जितेंद्र बिंद, डी.एन, सुरेश कुमार निषाद, जय प्रकाश भरद्वाज आदि