सावधान.....?? सावधान.....?? सावधान.....??

सावधान..........??   सावधान..........??   सावधान..........??

वाराणसी, उत्तर प्रदेश (Varanasi, Uttar Pradesh), एकलव्य मानव संदेश (Eklavya Manav Sandesh) ब्यूरो रिपोर्ट, 21 जून 2018। एक निषाद बेटी की इज्जत बचाने के लिए मा. स्वर्गीय जमुना निषाद जेल में थे। वहीं उसी समय दूसरी तरफ बीएसपी से बेटी के इज्जत एवं मंत्री के जेल जाने के बदले, उसी दौरान लाल बत्ती के चक्कर में राज्य मंत्री बनने वाले मा. जय प्रकाश निषाद जी आज निषाद समाज को गुमराह करने का घिनौना खेल, खेल रहे हैं। जब ये मंत्री बने थे तब इनकी इस हरकत पर जहां भी जाते थे, समाज थूक रहा था। इन्हें कोई नहीं पूछ रहा था। 
आज फिर जब एक तरफ निर्बल इंडियन शोषित हमारा आम दल के गठबंधन से गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव में सीट जीत रहा था तब फिर ये महाशय जी अपने निजी स्वार्थ में बसपा छोड़कर भाजपा के गोद में बैठकर समाज को गुमराह करने एवं निषाद पार्टी के कार्यकर्ताओं को लालच देकर तोड़फोड़ में लगे। और आज ये फोन करके निषाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष की  बुराई करके गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं।जो
‌दूसरे तरफ पूरे देश में डॉक्टर संजय कुमार के नेतृत्व में सामाजिक, ऐतिहासिक, राजनीतिक, आर्थिक कैडर के कार्यकर्ताओं से निषाद आरक्षण आंदोलन में चल रहे हैं।
सरकार और राजनीतिक पार्टियां झुकने को मजबूर हैं। अब समय आ गया है धैर्य रखने का। 70 साल बाद संविधान में मिला हुआ निषाद वंशियों का आरक्षण जल्द मिलने की पूरी उम्मीद है।
 राजनीतिक पार्टियां, निषाद समाज के गोरखपुर, फूलपुर, कैराना, नूरपुर की जीत से सबक ले रही हैं। निषादों का अनुसूचित आरक्षण देने के लिए सोच रही हैं।

वहीं दूसरी तरफ वर्तमान सरकार के राज्यमंत्री मा. जयप्रकाश निषाद, जो बीजेपी और आरएसएस के इशारे पर समाज को गुमराह करने के लिए काम कर रहे हैं। झूठ बोलकर निषाद पार्टी के समर्थकों, कार्यकर्ताओं को गुमराह कर रहे हैं, झांसा दे रहे हैं कि मुख्यमंत्री से मिलवा देंगे, आंदोलनकारियों के मुकदमे वापस करा देंगे, आरक्षण दिलवा देंगे, जैसी इनकी बातों से कुछ लोग गुमराह भी हो रहे हैं।
‌अगर हिम्मत है मा. जयप्रकाश निषाद (राज्यमंत्री उत्तर प्रदेश सरकार) में, तो अपनी पार्टी बीजेपी में जितने भी निषाद समाज के मंत्री, विधायक और नेता एवं दूसरे पार्टियों में भी जो नेता हैं, उनके साथ बैठक करके प्रतिनिधि मंडल राष्ट्रीय नेतृत्व से मिलने से जल्द कार्यक्रम बनाएं। अगर ऐसा नहीं करते हैं तो समाज के साथ धोखा है।
‌देखना है 2019 में समाज इन गुलाम तितरों के महाजाल में फंसकर गुमराह होता है या बहुजन समाज पार्टी की तर्ज पर निषाद पार्टी को अपने तन मन धन से साथ देकर अनुशासित कार्यकर्ता बनकर, अपनी आने वाली पीढ़ी के बेहतर भविष्य के लिए संविधान में मिला हक अधिकार लेने के लिए निषाद पार्टी के साथ आएगा।
‌जय निषाद राज
निर्बल इंडियन शोषित हमारा आम दल
 (N.I.S.H.A.D. Party)

Comments

हमारे प्रयास को अपना योगदान देकर और मजबूत करें

हमरी एंड्रॉइड ऐप मुफ्त में डाउनलोड करें

हमारे चैनल की मुफ्त में सदस्यता लें

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें

निषाद पार्टी न्यूज़

न्यूज़ वीडियो

निषाद इतिहास