भारत में एससी, एसटी औऱ पिछड़े वर्ग की गरीबी के मुख्य कारण......

 अलीगढ़ (Aligarh), एकलव्य मानव संदेश (Eklavya Manav Sandesh) ब्यूरो संदेश, 19 जून 2018। भारत में एससी, एसटी औऱ पिछड़े वर्ग की गरीबी के मुख्य कारण......

1. जिस मेहनत से स्वर्णो के बच्चे IAS, CA, SSC, MCA की तैयारी करते हैं....

2. क्षत्रियों बच्चे UPSC, RAILWAY, NDA आदि की परीक्षाओ की तैयारी करते है.....

3. बनियों के बच्चे MBA, Business, Engineering, IIT, Medical आदि की तैयारी करते है.....

उससे भी कडी मेहनत से हमारे पिछड़ा और शोषित वर्ग के बच्चे ...

कांवर यात्रा, 
दहीहंडी,
गणेश पूजा, 
नवरात्रि,
पैदल - लेटकर धार्मिक यात्रा,
परिक्रमा, 
जिस देवी देवता का ट्रेंड चलता है जैसे कि पीताम्बरा माता, 
सांई बाबा,
कैला देवी करौली आदि के दर्शन की तैयारी करते रहते है.......

इन मानसिक गुलाम, सामाजिक, वैचारिक और सांस्कृतिक रूप से पिछड़ों को सद्बुद्धि प्रदान करें....

ध्यान रखें- ईश्वर केवल शोषण का नाम है-सुकरात

ध्यान रखें- ईश्वर का जन्म ही गहरी साजिश से हुआ है-कार्ल मार्क्स

ध्यान रखें- इस देश में जो नौजवान इश्वरवादी हैं, मेरे नजर मे नामर्द है-शहीद भगत सिंह

ध्यान रखें- इस ब्रह्माण्ड में कोई ईश्वर नही है- तथागत गौतम बुद्ध

ध्यान रखें- पुरे विश्व में अगर कोई यह साबित कर दे कि ईश्वर है, तो मैं अपना सर्वस्त्र उसे दे दूँगा- स्टीफन हाँकिन्स  

ध्यान रखें- कोई ऐसा इश्वर नहीं है, जो इस ब्रह्माण्ड को संचालित कर रहा है,तुम अपने कर्म  के जिम्मेदार स्वंय हो-रजनीश ओशो

ध्यान रखें-जिस दिन ये मंदिर जाने वाली भीड़ स्कूल की तरफ जाने लगेगी, उस दिन यह देश खुद ही विकसित होना शुरू कर देगा- बाबा साहब डॉ. भीमराव अम्बेडकर

ध्यान रखें- जिस दिन एससी, एसटी, ओबीसी के लोग हिन्दू के नाम की जगह मूलवासी के नाम पर एकजुट हो कर अपना मत एक जगह डालना प्रारंभ कर देंगे, सत्ता पर एससी, एसटी और ओबीसी का ही कब्जा हो जाएगा। और सत्ता ही वह मास्टर चाबी है जो आपकी किस्मत के सभी ताले खोलती है, भगवान नहीं। वर्ना भारत में सबसे ज्यादा अमीरी होती। क्योंकि की यहाँ सबसे ज्यादा तरह के भगवानों की सदियों से पूजा होती चली आने के बाद आज भी गरबी है- एकलव्य मानव सन्देश

Comments

हमारे प्रयास को अपना योगदान देकर और मजबूत करें

हमरी एंड्रॉइड ऐप मुफ्त में डाउनलोड करें

हमारे चैनल की मुफ्त में सदस्यता लें

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें

निषाद पार्टी न्यूज़

न्यूज़ वीडियो

निषाद इतिहास