क्या 24 जुलाई को फूलन देवी की सहादत दिवस मनाने वाले शेर सिंह राणा और योगी जी का पुतला भी फूंकेंगे ?

अलीगढ़, उत्तर प्रदेश (Aligarh, Uttar Pradesh), एकलव्य मानव संदेश ब्यूरो रिपोर्ट, 20 जुलाई 2018। एक खबर व्हाट्सएप, फेसबुक पर चलाई जा रही है, जिसका बेनर है
ब्रेकिंग न्यूज:- पश्चिमी उत्तर प्रदेश के सभी निषाद कश्यप लोधी समाज के महानुभावों के लिए खुशखबरी है कि आप के पश्चिमी उत्तर प्रदेश में पहली बार" विश्व वीरांगना फूलन देवी" साहदत महारैली का आयोजन किया जा रहा है जिसमें,बेेेनर इस प्रकार है

और खबर इस प्रकार है-
पश्चिमी उत्तर प्रदेश के सभी निषाद कश्यप लोधी समाज के महानुभावों के लिए खुशखबरी है कि आप के पश्चिमी उत्तर प्रदेश में पहली बार" विश्व वीरांगना फूलन देवी" साहदत महारैली का आयोजन किया जा रहा है जिसमें मां जय प्रकाश निषाद जी पूर्व मंत्री विधायक बसपा, मां आनंद निषाद संस्थापक राष्ट्रीय महान गणतंत्र पार्टी, मां आच्छे लाल निषाद जी पूर्व मंत्री विधायक पूर्वांचल, मां अपर्णा लोधी महाराष्ट्र, मां चंदेल साहब गुजरात, मां जितेंद्र बर्मा विधायक भाजपा फतेहाबाद, मां छोटे लाल बर्मा पूर्व मंत्री विधायक बसपा फतेहाबाद, मां पदम सिंह निषाद वरिष्ठ समाजसेवी, मां नाथूराम बर्मा जिला मंत्री भाजपा आगरा, मां अंशू रानी निषाद पूर्व प्रत्याशी सपा बाह, मां मीना राजपूत फिरोजाबाद, मां सीपी सिंह निषाद ओरया, मां राघवेन्द्र सिंह निषाद इटावा, मां आत्मा राम वीर सहीद अखिलेश निषाद जी के पिता इटावा, डॉ लेखराज सिंह, श्रीमती जलदेवी निषाद, राजेंद्र सिंह निषाद प्रत्याशी लोकसभा फतेहपुर सीकरी क्षेत्र के सभी नेतागण, बुद्धजीवी , समाज सेवी नेता, जिला पंचायत सदस्य गण, प्रधान गण,बीडीसी गण, मात्र शक्ति, युवा शक्ति, बुजुर्ग शक्ति, आदि नेता गणों को तथा जनता के सभी महानुभावों को सादर आमंत्रित किया गया है।
 इन आयोजकों से कुछ सवाल इस प्रकार से हैं-
1-क्या जय प्रकाश निषाद ने इससे पहले कभी वीरांगना फूलन देवी जी का सहादत दिवस मनाया है।
2-क्या जो नाम इसमें भाजपा, बसपा, सपा के लोगों के दिये हैं, इन लोगों ने कभी वीरांगना फूलन देवी जी का सहादत दिवस मनाया है।
3-फूलन देवी जी के हत्यारे शेर सिंह राणा को भाजपा की सरकार हिन्दू ह्रदय सम्राट के रूप में सम्मानित करा रही है। तो क्या ये फूलन देवी जी का अपमान नहीं है। अगर अपमान है तो जय प्रकाश निषाद जो गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव के समय भाजपा में गये थे और आज भी भाजपा के प्रांतीय उपाध्यक्ष हैं


तो क्या जय प्रकाश निषाद ने भाजपा छोड़ दी है या आज भी हैं। क्योंकि की जो बेनर लगा है उसमें जय प्रकाश निषाद राष्ट्रीय महान गणतंत्र पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष लिखे गए हैं ?
4-क्या जो निषाद वंशीय लोग भाजपा में हैं, इन लोगों ने आज तक कभी भी वीरांगना फूलन देवी के हत्यारे को फांसी दिलाने की मांग की है। अगर नहीं की है तो, किस मुंह से ये वीरांगना फूलन देवी जी का सहादत दिवस मना रहे हैं ?
5-क्या 24 जुलाई को ये आयोजक निषाद लोग वीरांगना फूलन देवी के हत्यारे को महिमा मंडित करने वाले उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री योगी आदित्यनाथ और उनके हत्यारे शेर सिंह राणा का पुतला फूंकने का कार्य करेंगे ?
6-जब एक रावण ने माता सीता जी के शरीर को केवल उंगली से छुआ था, कोई अन्य दुष्कर्म नहीं किया था, उसका पुतला हज़ारों साल से जलाया जाता है। तो जिन दर्ज़नों पापियों ने बहन फूलन देवी जी के साथ अत्यचार किया था तो उनके पुतले इस सहादत दिवस पर फूकने का कार्य ये आयोजक करेंगे ?
7-क्या ये 24 जुलाई का कार्यक्रम भाजपा के इसारे किया जा रहा है ? अगर नहीं तो इस दिन फूलन देवी के हत्यारे की पेरोल खत्म करने और उसे जेल भेजने के साथ फूलन देवी हत्या कांड की सीबीआई जांच की मांग कार्यक्रम में भाग लेने वाले भाजपा के लोगों द्वारा की जाएगी ?
8-क्या इन आयोजको ने शेरसिंह राणा को अपना रिस्तेदार बना लिया है या रिस्तेदार बनाने की तैयारी कर रहे हैं।
अगर इन सवालों के जबाब आयोजक और भाजपा के लोगों द्वारा नहीं दिये गए तो, ये सहादत दिवस के नाम पर केवल निषादों को गुमराह करने के लिए भाजपा द्वारा रचा गया खतरनाक षड्यंत्र है ? और निषाद वंश को ऐसे षड्यंत्र से दूर रहना चाहिए। क्योंकि पहले गोरखपुर, फूलपुर लोकसभा उपचनावों में भाजपा को करारी मात देने की असली जिम्मेदार निषाद पार्टी थी। जिसने 29 साल से गोरखपुर लोकसभा क्षेत्र पर कब्ज़ा जमाये बैठे और उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री आदित्यनाथ और फूलपुर में प्रदेश के उपमुख्यमंत्री को है हराया था। और जब तक योगी जी और मोदी जी होश संभाल पाते, तुरंत ही कैराना और नूरपुर में निषाद पार्टी वाले महा गठबंधन ने फिर करारी हार का मज़ा दुबारा चखा दिया।
आज भाजपा निषाद पार्टी और निषाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष महामना डॉ. संजय कुमार निषाद को सीधी टक्कर देने से बच रही है। वह कुछ पैसे के लालची लोगों के द्वारा निषाद समाज के वोटरों को बहकाने के लिए जय प्रकाश निषाद और आनंद निषाद जैसे लालची टट्टुओं का सहारा ले रही है। इसलिए इस 24 जुलाई की सभा में भाग लेने वाले लोगों को सोचना होगा कि निषाद वंश की एकता के लिए डॉ. संजय कुमार निषाद जी का साथ देकर भाजपा जौसी पार्टी जो गरीब, दलितों, महिलाओं, नौजवानों के लिए धोखे देने में लगी है को सबक सिखाने के लिए आगे आना होगा।

Comments

हमारे प्रयास को अपना योगदान देकर और मजबूत करें

हमरी एंड्रॉइड ऐप मुफ्त में डाउनलोड करें

हमारे चैनल की मुफ्त में सदस्यता लें

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें

निषाद पार्टी न्यूज़

न्यूज़ वीडियो

निषाद इतिहास