गोरखपुर चलो .......... 25 जुलाई महासंग्राम दिवस !!

आगरा, उत्तर प्रदेश (Agra, Uttar Pradesh), एकलव्य मानव संदेश (Eklavya Manav Sandesh) के लिए पूजाराम जी की का लेख आगरा ब्यूरो चीफ बाबा बालक दास निषाद के द्वारा, 10 जुलाई 2018। डॉक्टर संजय कुमार निषाद जी के करिश्माई नेतृत्व व निषाद पार्टी के बढ़ते प्रभाव से घबराए आरएसएस का एक और षड्यंत्र। पहले तो अमित शाह ने आगरा मीटिंग में अपने गुलामो को आदेश दिया कि अब बीजेपी की नाव डूबने बाली है। 2014 के चुनाव में तो बीजेपी की नाव को भारी भरकम निषादवंश वोट देकर पार लगा दिया। लेकिन अब निशादवंशजों का ज़मीर जाग चुका है। डॉक्टर संजय जैसे समर्पित व जुझारू नेतृत्व ने निशादवंशजों को अपने पूर्वजों के महानतम इतिहास को पढ़कर, आत्मसम्मानी बना दिया है। अपने मान सम्मान स्वाभिमान हक अधिकार को छीनने की जंग का रास्ता बता दिया है। अब यह स्वाभिमानी निषाद गुमराह होने बाला नहीं। दलालो के प्रभाव से भी आज़ाद हो चुका निषादवंश अब खुद ही अपनी जंग लड़ेगा। निषाद पार्टी के बैनर तले। जय निषाद राज की गूंज से घबराए अमितशाह ने साफ कह दिया कि, अब आने बाले चुनावो में बीजेपी की नाव निशादवंशजों मल्लाहों के भरोशे पार होने बाली नहीं है। अब उनको कोई नया षड्यंत्र रचना होगा।
       इसी रणनीति के तहत बीजेपी कुछ निशादवंशजों को मंत्री बना सकती है, राज्यमंत्री का दर्जा दे सकती है, लाल बत्ती दे सकती है। कुछ और भी कर सकती है जिसका अंदाजा अभी नहीं लगाया जा सकता। बीजेपी  शाशन का दमनचक्र भी झेलना पड़ सकता है।
      बीजेपी के इसी षड्यंत्र के तहत निषाद साध्वी निरंजन ज्योति को आने बाले कुम्भ के अवसर पर, महामंडलेश्वर भी बनाया जा सकता है। यह खबर बड़ी तेजी से टीवी चैंनलों पर दिखाई जा रही है।
      इसका मतलव है कि, आरएसएस पूरे लावलश्कर के साथ निशादवंशजों को पटाने में लग गया है। वो किसी भी तरह डॉक्टर संजय कुमार निषाद के प्रभाव को कमजोर करके फिर से दलालो व षडयंत्रो के माध्यम से भटकाना चाहता है। हालांकि डॉक्टर संजय भी कोई कमजोर खिलाड़ी नहीं हैं।फिर भी बहुत ही अलर्ट व सावधान रहने की जरूरत है। हर निशादवंशज को मजबूती के साथ जुटा रहना होगा। यह मानकर की निषाद पार्टी ही उनका अपना घर है। यहीं से उंसके मान सम्मान स्वाभिमान हक अधिकार की जंग लड़ी जा सकती है। यही उनकी राजनीतिक सफलता का पहला और अंतिम अवसर है।
इस अवसर को प्राप्त करने के लिए निषाद पार्टी समय समय पर विशाल कार्यक्रम आयोजित करती रहती है। इसी क्रम में निषाद वंशज नेताओं को धोखे से या षडयंत्र से अब तक मारे जाने के पर्दाफाश करने और निषाद आरक्षण को लागू कराने के लिए वीरांगना पूलन देवी के शहादत दिवस पर गोरखपुर में विशाल आयोजन 25 जुलाई को आयोजित किया जा रहा है, 
गोरखपुर चलो ..........25 जुलाई महासंग्राम दिवस !! के रूप में। इन आयोजन में पूरे देश से निषाद वंसजों के पहुंचने की संभावना है। आप भी जरू पहुंचे।