निषाद वंशीय आरक्षण के लिए लोकसभा में गूंजी गोरखपुर के लाल की दहाड़

नई दिल्ली (New Delhi), एकलव्य मानव संदेश (Eklavya Manav Sandesh) ब्यूरो रिपोर्ट, 23 जुलाई 2018।  निषाद वंशीय आरक्षण के लिए लोकसभा में गूंजी गोरखपुर के लाल की दहाड़।
निषाद वंशीय समुदाय के आरक्षण की आवाज को आज 22 जुलाई को गोरखपुर के सांसद, ईं. प्रवीण कुमार निषाद ने जोरदार तरीके से रखा।
लेकिन कैसे मिलेगा निषाद वंशियों को आरक्षण, जब लोकसभा में बोलने ही नहीं दिया जा रहा भाजपा सरकार में। जब निषाद वंशियों के आरक्षण का असली कारण ईं. प्रवीण कुमार निषाद ने शुरू किया तो लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने उनको केवल सवाल रखने को कहा अन्य नहीं। लेकिन बिना कारण जाने मर्ज का इलाज नहीं हो सकता है। और इसी कारण से ये समाज आज तक अपने परिभाषित आरक्षण को लागू नहीं करा सका है। निषाद वंश इस देश का असली मालिक है और जितने भी आक्रमण कारी भारत आये सभी के युद्ध निषादों से हुए। अंग्रेजों को भागने के लिए अनेकों निषादों ने अपनी कुर्वानी दी हैं। 167 नाविकों ने समाधान निषाद और लोचन निषाद के नेतृत्व में अपनी नावों को सत्ती चौरा घाट कानपुर पर डुबोकर 3400 अंग्रेज सैनिकों को गंगा नदी में डुबोकर मारा और पांच एक्ट से अपना सब कुछ लुटा कर भी आज तक आज़ादी के 70 साल में भी खोये हुए अधिकारों को प्राप्त करने के लिए संघर्ष रत है। और इसी देश भक्ति में 578 जातियों में बंट गया। लेकिन आज की भाजपा को इनकी कुर्बानी याद नहीं रही हैं। देश से गद्दारी करने वालों को भारत रत्न और अपना सब कुछ लुटाने वालों को आज सदन में बोलने का भी समय नहीं। अब आप ही देखलो कैसे मिलेगा आपको हकाधिकार।
ईं. प्रवीण कुमार निषाद ने सदन में  कश्यप निषाद समाज के आरक्षण की आवाज़ को रखने के लिए निषाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष महामना डॉ. संजय कुमार निषाद की किताब "आरक्षण" में लिखित तथ्यों का सहारा लिया
 ई. प्रवीण कुमार निषाद सांसद गोरखपुर को आज जैसे ही पहली बार सदन में बोलने को अधिकार मिला तो, उन्होंने मछुआ समुदाय के अधिकार की बात रख कर संकेत दे दिया की बहुत जल्द निषाद पार्टी के माध्यम से अधिकार मछुआ समुदाय के दरवाज़े पर पहुँचेगा। औऱ महामना डा. संजय कुमार निषाद जी की आवाज व आरक्षण की किताब सदन में बोलना शुरू कर दिया है, जो मछुआ समुदाय के लिए गर्व की बात है।
 मछुआ समुदाय के हक़-अधिकार व आरक्षण की लड़ाई लड़ रही निषाद पार्टी की आवाज को आज सदन में उठाकर ईं. प्रवीण कुमार निषाद ने सवित कर दिया कि किसी भी परिस्थिति में महामना मा. डॉ संजय कुमार निषाद के द्वारा निषाद पार्टी के माध्यम से लड़ी जा रही आरक्षण की लड़ाई को कमजोर नहीं होने दिया जायेगा। और आरक्षण व समाज के हकाधिकार लेकर ही रहेंगे। सदन में निषाद वंशीय आरक्षण का मुद्दा उठाकर अपना वादा पूरा किया।