ग्राम प्राधन जेपी निषाद से रंगदारी मांगने गए बदमासों को ग्रामीणों ने पीटा, एक की मौत

सुल्तानपुर, उत्तर प्रदेशक्यू (Sultanpur, Uttar Pradesh), एकलव्य मानव संदेश (Eklavya Manav Sandesh) ब्यूरो रिपोर्ट, 19 अगस्त 2018। ग्राम प्राधन जेपी निषाद से रंगदारी मांगने गए बदमासों को ग्रामीणों ने पीटा, एक की मौत। राजा बाबू ने शनिबार शाम को ग्राम प्राधन जेपी निषाद से शनिबार शाम को रंगदारी के रूप से दो लाख रूपये मांगे थे। इसकी शिकायत जेपी ने पुलिस को कर दी थी। इसके बाद आज रविबार को राजा बाबू अपने साथियों को लेकर जे पी के घर सुबह अँधेरे में ही 4 बजे पहुँच गया और जेपी को धमकाने व मारपीट करने लगा। इस पर प्रधान द्वारा शोर मचाये जाने पर ग्रामीण इकट्ठे हो गए और बदमाशों को मार पीट कर बंधक बना लिया।
    ग्रामीणों की इस मुठभेड़ में मृत बदमाश शारदा प्रसाद सिंह उर्फ राजाबाबू निवासी राम नगर कोट, मुन्ना सिंह रामनगर इमिलिया का भाई है। जो अभी हाल में ही सुल्तानपुर में यूपी राजपूत करणी सेना का जिला अध्यक्ष बनाया गया था ।
    जनपद सुल्तानपुर की कोतवाली नगर थाना क्षेत्र की ग्राम पंचायत कबरी के पूरे सेमरा घाट में आज सुबह ग्रामीणों ने तीन बदमशों को बांधकर जमकर पीटा। ग्रामीणों की पिटाई से एक बदमाश की पिटाई से मौत हो गई। दो घायलों को पुलिस द्वारा जिला अस्पताल ले जाया गया, जहां से हालत गंभीर होने पर उन्हें ट्रामा सेंटर लखनऊ के लिए रेफर कर दिया गया। 
       सेमरा घाट निषाद बस्ती में रविवार की सुबह करीब चार बजे हरे रंग की क्वालिस गाड़ी से शारदा प्रसाद सिंह उर्फ राजाबाबू (22) निवासी रामनगर कोट, अपने साथी धनंजय यादव (25) निवासी इमलिया खुर्द और मोहित मिश्र (24) निवासी मिश्राने थाना गोसाईगंज व अन्य लोगों के साथ प्राधन के घर रंगदारी मांगने पहुंचा। 
      ग्राम प्रधान जेपी निषाद ने रंगदारी देने से मना करने पर हथियारों से बदमाशों ने हमला कर दिया। जिससे ग्राम प्राधन जेपी निषाद घायल हो गया। ग्राम प्रधान के शोर मचाने पर निषाद बस्ती के लोग इकट्ठा हो गए। इससे बदमशों में भगदड़ मच गई। शारदा के साथ गए कई लोग भाग गए। ग्रामीणों ने तीन को पकड़कर रस्सा से बांध दिया और उनकी जमकर पिटाई की। इस पिटाई में शारदा प्रसाद सिंह की मौके पर मौत हो गई। पुलिस शारदा को लेकर जिला अस्पताल पहुंची, जहां डाक्टरों ने शारदा को मृत घोषित कर दिया। घायल धनंजय व मोहित को जिला अस्पताल से ट्रामा सेंटर लखनऊ रेफर कर दिया गया। 
        इस घटना के बाद ग्राम प्रधान जेपी निषाद और उनके साथ के कुछ अन्य ग्रामीणों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। निषादों को हिरासत में लेने के खिलाफ जिलेभर के निषादों में गुस्सा है। ग्राम प्रधान के समर्थन में सैकड़ों ग्रामीण कोतवाली पहुंच गए। 
      घटना की जानकारी मिलने पर गांव व जिला अस्पताल में बड़ी संख्या में फोर्स तैनात की गई है। घटना कहीं वर्ग संघर्ष का रूप न लें इसको लेकर गांव में पीएसी की तैनाती की गई है। एसपी अनुराग वत्स ने गांव में पहुंचकर मौका मुआयना किया।