आधार में हेराफेरी करके राशन घोटाला करने वाले डीलर के विरुद्ध हुआ अभियोग दर्ज

फतेहाबाद, आगरा, उत्तर प्रदेश (Fatehabad, Agra, Uttar Pradesh), एकलव्य मानव सन्देश (Eklavya Manav Sandesh) रिपोर्टर संजय सिंह निषाद की रिपोर्ट, 29 अगस्त 2018। आधार में हेराफेरी करके राशन घोटाला करने वाले डीलर के विरुद्ध हुआ अभियोग दर्ज।
आगरा जनपद की तहसील फतेहाबाद के शहरी क्षेत्र में एक राशन डीलर ने एक ही आधार कार्ड से एक नहीं वल्कि 73 आधार कार्डो में हेराफेरी कर गरीब लोगों के राशन को डकार लिया। विभागीय अधिकारियों को जानकारी होने पर आनन फानन में राशन डीलर के विरुद्ध थाना फतेहाबाद में आवश्यक वस्तु अधिनियम की धाराओं में अभियोग पंजीकृत कराया गया है। शहरी क्षेत्रो में एफपीएस ओटोमेशन व्यवस्था के अन्तर्गत उचित दर दुकान स्तर पर ई-पॉश मशीनों से राशन कार्ड लाभार्थियों को किये जाने वाले आधार आधारित आवश्यक वस्तु वितरण हेतु एन आई सी उ.प्र.के माध्यम से यूआईडीएआई की आधार बाँयोमैटिक आँथोन्टिकेशन तकनीक का प्रयोग किया जाता हैं। जिला पूर्ति अधिकारी द्वारा उक्त कम्प्यूटराइज्ड तकनीक का दुरुपयोग होने की जानकारी दिये जाने के उपरांत माह जुलाई के डाटा का एन आई सी उ.प्र. से विस्तृत परीक्षण कराया गया। परीक्षण के समय पाया गया कि आधार आँथोन्टिकेशन के समय कतिपय प्रकरण में वास्तविक लाभार्थी के डाटाबेस में सीडेड उसके आधार संख्या को एडिट करके किसी अन्य व्यक्ति की आधार संख्या को फीड कर दिया गया और फिर उस अन्य व्यक्ति के बायोमेट्रिक का प्रयोग कर ट्राजेक्शन प्रक्रिया पूर्ण की गई एवं राशन अहारण किया गया। उक्त ट्रांजेक्शन के उपरांत वास्तविक लाभार्थी के आधार संख्या को पुनः उसके डाटाबेस में अपडेट कर दिया गया। जिससे इस जालसाजी की प्रक्रिया से वास्तविक लाभार्थी को आवश्यक वस्तु प्राप्त कर अधिकार से वंंचित किया गया।
 पूर्ति निरीक्षक फतेहाबाद रमाकांत सिंह ने बताया कि कस्वा फतेहाबाद में विगत आठ वर्ष पूर्व मृतक आश्रित कोटे में राशन की दुकान विनोद कुमार के नाम दुकान स्वीकृति हुई थी। राशन दुकान का संचालन वह अपने चचेरे भाई  राजीव कुमार के साथ करते आ रहे हैं। राजीव कुमार ने स्वयं के आधार कार्ड संख्या 6501 7356 2485 पर 73 राशन कार्डों पर बायोमेट्रिक की गई। इस कार्य को अनिल चक्रवर्ती निवासी शहीद नगर आगरा जो ताजगंज क्षेत्र में उचित दर के बिक्रेता हैं के माध्यम से ऋषि कुमार नामक लडके के द्वारा किया गया है। राजीव कुमार द्वारा दूरभाष पर संपर्क में रहकर अपना आधार कार्ड किसी अन्य के राशन कार्डों की यूनिटों पर लगवाकर बायोमेट्रिक विवरण माह जुलाई 2018 में किया गया। इसके द्वारा दो हजार रुपये आईडी प्रयोग करने एवं 16 रुपये प्रति कार्ड के हिसाब से अनिल चक्रवर्ती को दिये जाते थे।
     राशन डीलर ने बताया कि अनिल चक्रवर्ती द्वारा प्रोतसाहित किया तथा दुकान में मुनाफा कम होने पर कदम उठाया गया।
   रमाकांत सिंह पूर्ति निरीक्षक ने बताया कि राशन डीलर के विरुद्ध थाना फतेहाबाद मे आवश्यक वस्तु अधिनियम की धारा 3/7के अन्तर्गत अभियोग दर्ज कराया गया है।