परिपक्व नेतृत्व ही समयानुसार सही फैसला लेता है

आगरा, उत्तर प्रदेश (Agra, Uttar Pradesh), एकलव्य मानव सन्देश ब्यूरो रिपोर्ट, 2 सितम्बर 2018। परिपक्व नेतृत्व ही समयानुसार सही फैसला लेता है, आपतो केवल निषाद पार्टी से जुड़ो और जोड़ो। कुछ खास फैसले नेतृत्व को लेने होते हैं, उन्हें लेने दो। हर फैसले पर हर व्यक्ति का दखल अच्छा नही होता।
क्या भागवत/आरएसएस ने मोदी को पीएम कैंडिडेट बनाया, आपसे पूछा था क्या ???
शायद वोट फिर भी दिया होगा।
वहाँ सस्ते में मिटने और विकने के लिए कोई सवाल नहीं और यहाँ शीर्ष नेतृत्व के फैसले पर सवाल क्यों ???
समाज के लिए समर्पण है तो मजबूत बनो। डगमगाने से मजबूती नहीं आती है वल्कि समाज के नुकसान की संभावना बढ़ जाती है। बहुत से तोड़ मोड़ देखे होंगे, डॉक्टर संजय के मान सम्मान स्वाभिमान हक अधिकार के इस राजनीतिक आंदोलन में, आगे भी देखोगे। परिपक्व नेतृत्व समयानुसार सही फैसला लेता है।
यह भी आपको पता होगा कि निषादवंश का हक अधिकार मान सम्मान बिना सत्ता के नही मिलेगा। उदाहरण सामने है।
मोदी-योगी की सरकारें अपने बनबाईं और आपका ही मिला हुआ आरक्षण आपको नहीं दे रहीं। केवल जाति प्रमाणपत्र देना है, लेकिन रोककर वैठा है योगी।
क्या यह मोदी को पता नही है ??
नेतृत्व पर भरोसा रखो। अगर समाज का कुछ भला होगा तो यहीं से होगा। डॉक्टर संजय का आंदोलन सत्ता प्राप्ति से पहले रुकेगा नहीं।
      अभी शिक्षकों की भर्ती हो रही है। ढूंढकर निषाद वंशियों को निकाला जा रहा है। शिक्षामित्र सबसे ज्यादा निषाद ही थे, जो सहायक अध्यपक बना दिये थे अखिलेश ने, सबको बाहर कर दिया। अब शिक्षकों की भर्ती में ढूंढकर निषादो को फेल कर दिया। शुक्ला, शर्मा, पण्डेय, तोमर और चौहान नज़र आ रहा है।
भटकते रहो और दुश्मनो को वोट देते रहो। खून तो पी ही रहे हैं, आगे क्या क्या करेंगे।
(पी. आर. वर्मा एड्वोकेट, आगरा)