बारिश से फसल खराब होने पर यमुना में कूद गया किसान, तलाश जारी

फतेहाबाद, आगरा, उत्तर प्रदेश (Fatehabad, Agra, Uttar Pradesh), एकलव्य मानव सन्देश (Eklvya Manav Sandesh) रिपोर्टर संजय सिंह निषाद की रिपोर्ट, 15 सितम्बर 2018।
आगरा जनपद की फतेहाबाद तहसील के डौकी थाना क्षेत्र के वाजिदपुर स्थित यमुना नदी के घाट पर शुक्रवार शाम एक 65 वर्षीय किसान बीच पुल से कपड़े उतारकर यमुना नदी में कूद पड़ा। प्रत्यक्षदर्शियों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने उसकी खोजबीन की परन्तु वह नहीं मिल सका। नदी किनारे मिले कपडों के आधार पर परिजनों ने उसकी शिनाख्त की। बताया जाता है कि उसकी 8 बीघा बाजरे की फसल बारिश से खराब ‌हो गई थी। जिसके चलते उसने यह कठोर कदम उठाया।
      प्राप्त जानकारी के अनुसार वाजिदपुर स्थित यमुना नदी के घाट पर एक 65 वर्षीय किसान मुरलीधर पुत्र ख्यालीराम निवासी आसे का पुरा थाना डौकी आया तथा कपडे उतारकर पुल पर खडा हो गया। प्रत्यक्षदर्शियों ने जब शोर मचाया तब तक वह यमुना नदी की बीच धार में कूद पडा। आस पास के गांव में यमुना नदी में वृद्घ के कूदने की सूचना मिली जिस पर मुरलीधर का छोटा पुत्र मुकेश अपने अन्य साथियों के साथ घटना देखने के लिए चला आया। जब उसने किनारे पर पडे कपडे देखे तो वह पहचान गया तथा अन्य परिजनों को इसकी सूचना दी।
      घटना की सूचना पर पुलिस व गोताखोरों ने मुरलीधर की खोजबीन की परन्तु वह नहीं मिल सका। देर रात अंधेरा होने पर तलाश को रोक दिया। शनिवार सुबह आगरा से आये गोताखोरों ने उसकी तलाश शुरू की परन्तु समाचार लिखे जाने तक उसका पता नही चल सका। वहीं मुरलीधर के पुत्रों ईश्वरीय प्रसाद, गंगा प्रसाद, मुकेश, अशोक के अनुसार उनके पिता पर 16 बीघा जमीन थी जिसमें 8 बीघा में बाजरे की फसल की थी, जिसमें पानी भर जाने से फसल नष्ट्र हो गई थी। फसल के लिए कुछ कर्जा भी ले रखा था जिसके चलते वह गुमशुम भी रहते थे तथा अंत में उन्होंने आत्मघाती कदम उठा लिया।