मध्य प्रदेश के अनूपपुर मसीरा में डॉ संजय कुमार निषाद को सुनने उमड़ा विशाल जन समूह

 
अनूपपुर मसीरा, मध्य प्रदेश (Anooppur Masira Madhya Pradesh), एकलव्य मानव सन्देश (Eklavya Manav Sandesh) ब्यूरो रिपोर्ट, 2 अक्टूबर 2018। निषाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अपने 6 दिवसीय दौरे के क्रम में आज अनूपुर मसीरा में पहुंचे। मध्य प्रदेश के व्यहारी विधान सभा की इस सभा में महामना डॉ संजय कुमार निषाद को सुनने के लिए विशाल जनसमूह उमड़ पड़ा। मध्य प्रदेश के माझी समाज ने अब जान लिया है कि बिना अपनी सरकार या सरकार में मजबूत भागेदारी के माझी समस्या के हल होना मुश्किल है। क्योंकि भाजपा और कांग्रेस को पिछले 70 सालों से ये समाज वोट देता रहा है, फिर भी किसी ने मझियों का कल्याण अभी तक नहीं किया है।
    आज 2 अक्टूबर को मध्य प्रदेश के अनूपपुर मसीरा में डॉ संजय कुमार निषाद को सुनने उमड़ा विशाल जन समूह। मध्य प्रदेश के मझियों के भी लगने लगा निषाद पार्टी की करेगी हमारा कल्याण। महामना डॉक्टर संजय कुमार निषाद जी का अनूपपुर मसीरा में जोरदार स्वागत हजारों की संख्या में लोगों ने करके, मध्य प्रदेश सरकार पर निषाद पार्टी द्वारा दबाव बनाने का प्रयास कर दिया है, जिसे माझी का मुद्दा हल हो सके और माझी भाइयों को रोजगार एवं हक और अधिकार मिल सके।
   2018 के मध्य प्रदेश के विधान सभा चुनाव में निषाद ने सामान विचार धारा और माझी समस्य के हल में सहयोग करने वाले दलों के साथ चुनाव लड़ने के मन बनाया है। अगर यह प्रयास सफल नहीं होता है तो 100 से ज्यादा ऐसी सीटें जो माझी बाहुल्य हैं पार्टी अपने प्रत्यसी खड़ाकरके दमदारी के साथ चुनाव लड़ेगी। मध्य प्रदेश में निर्बल इन्डियन शोषित हमारा आम दल (निषाद पार्टी) को चुनाव आयोग ने पाल और नाविक सहित नौका चुनाव चिन्ह आवंटित किया है।
    डॉ संजय कुमार निषाद के क्रन्तिकारी विचारों से निषाद वंशीय सभी जातियों में जबरदस्त एकजुटता पूरे देश में देखने को मिल रही है। निषाद पार्टी पहली पार्टी बनी है जो निषाद वंश के लोगों ने अपनी मेहनत की कमाई खर्च करने के साथ समय भी खर्च करके तैयार की है। आज भाजपा जैसी पार्टी को डॉ संजय कुमार निषाद के नाम से डर सताने लगा है। और इसी लिए कुछ दलाल और समाज को गुमराह लोगों को भाजपा द्वारा संरक्ष्ण दिए जाने की बातें भी सामने आने लगी हैं। क्योंकी भाजपा को पता है कि पूरे देश में निषाद मछुआरा समाज का वोट कारीब 25 करोड़ है और अगर इस समाज का कोई सर्वमान्य नेता बन गया तो हमारी दाल गलना मुश्किल हो जायेगी। इसिलए इस पार्टी के नेता निषाद माझी मछुआरों को राम नाम की घुट्टी भी पिलाने की कोशिश करते रहते हैं। लेकिन डॉ. संजय कुमार निषाद ने भाजपा और आरएसएस के इस कुचक्र का हल अपने कैडर बेस्ड कार्यकर्मों के द्वारा समाज को सही रास्ते पर लाने के द्वारा ढून्ढ लिया है। और बड़ी संख्या में केड्राइज़्ड कार्यकर्त्ता तैयार करके एक़ मजबूत पार्टी की नींव रख दी है। और आज उत्तर प्रदेश के बाद सबसे बड़ा जन समर्थन मध्य प्रदेश में इस पार्टी को मिल रहा है।