चित्तरकूट में भूमाफियों पर नहीं लग पा रही है नकेल

चित्तरकूट, उत्तर प्रदेश (Chitrakoot, Uttar Pradesh), एकलव्य मानव सन्देश (Eklavya Manav Sandesh) रिपोर्टर शशिकांत की रिपोर्ट, 5 अक्टूबर 2018। उत्तर प्रदेश के बुंदेलखण्ड क्षेत्र के चित्रकूट जिले में शासन के तमाम प्रयासों के बावजूद भूमाफियाओ की ऊंची पहुंच के चलते आज भी सरकारी भूमि सिर्फ कागजों में ही हल्का लेखपाल द्वारा कब्जा मुक्त दिखाकर गलत आंकड़े पेश कर गुमराह किया जा रहा है।
    यह बहुत कम लोगो को ही पता है कि देश की आजादी में अंग्रेजो के खिलाफ अग्रणी भूमिका निभाने वाला मछुआरा समाज अंग्रेजों के दमनकारी क्रिमनल ट्राइब्स एक्ट से प्रभावित होकर अपने मूल निवास को छोड़कर 578 उपजातियों, घुमन्तू जाति में परिवर्तित होकर मल्लाह, कोल रैकवार, केवट, बिंद, कश्यप के रूप में नदी, तालाबों, जंगलों की तरफ खाली जमीनों में अपना आशियाना बनाकर रहने को मजबूर हुआ। आज भी शासन इन पर कोई विशेष ध्यान न देते हुए भूमि का पट्टा तक नही किया गया है, जिससे इन पर बेघर होने की चिंता साफ दिखाई दे रही है। इसका मूल कारण समाज में व्याप्त अशिक्षा भी है।
   ताज़ा मामला कुलीतलैया की ग्राम सभा डिलौरा का है जब भूमाफियाओं के द्वारा रात्रि में ग्राम पंचायत की जमीन पर कब्जा किया जा रहा था, तभी ग्रामीण महिलाओं ने विरोध किया। मौके पर पहुंची डायल 100 पुलिस ने महिलाओं से गाली गलौज कर मामले को दबाने का प्रयास किया। जिससे महिलाएं भी उग्र हो गईं। इन सभी घटनाओ की विडिओ कवरेज कर रहे एकलव्य मानव सन्देश के युवा पत्रकार शशिकांत का पुलिस द्वारा फोन छीन लिया गया। छीना झपटी में पत्रकार मामूली रूप से चोटिल हो गया। बाद में उनका फोन वापस लौटा दिया गया।
     ग्राम पंचायत डिलौरा कुलीतलैया की ग्राम सभा की जमीन पर 1949 से निवास कर रहे ग्रामीणों को भूमाफियाओं, दबंगों द्वारा परेशान करके विस्थापित होने को मजबूर किया जा रहा है। बसंत लाल निषाद पुत्र रामकिशन शिकायती पत्र लेकर  कोतवाली पहुंचे तो उनके पीछे तभी उनकी छोटी पुत्री ऊमा को घर पर पर अकेली पाकर कुछ दबंगों द्वारा अभद्रता की जिसकी सूचना मिलते ही पुलिस चौकी जिला अस्पताल से कांस्टेबल बाबूलाल पहुंचे, तब तक अभद्रता करने वाले अज्ञात युवक भाग निकले। भारी मात्रा में असलहाधारियो को देखते हुए कांस्टेबल ने उच्च अधिकारियो को सूचित किया। तभी मौके पर सीओ सदर व कोतवाल ने पहुंचकर सख्त हिदायत देते हुए देसराज व धर्मराज को फटकार लगाई और अज्ञात युवकों को जल्द गिरफ्तार करने व दंडित करने का ग्रामीणो को आश्वसन दिया। सदर एसडीएम ने मौके में पहुंचकर लेखपाल को मौखिक आदेश देकर यथास्थिति बनाए रखने व किसी भी ग्रामीण के आवास को न तोड़ने का आदेश दिया ।