लालू प्रसाद यादव को चारा घोटाले में फंसने वाले अधिकारी पर करोड़ों कि रिश्वत मांगने का केस हुआ दर्ज

अलीगढ, उत्तर प्रदेश (Aligarh, Uttar Pradesh), एकलव्य मानव सन्देश (Eklavya Manav Sandesh) सोशल मीडिया ब्यूरो रिपोर्ट, 24 अक्टूबर 2018। लालू प्रसाद यादव को चारा घोटाले में फंसने वाले अधिकारी पर करोड़ों कि रिश्वत मांगने का केस हुआ दर्ज। मुद्दा यह है कि इसमें लालू यादव को फसाने के लिए मुख्य विपक्षी दलों से कितनी रिश्वत ली होगी या उच्च पद पर प्रमोशन पाया होगा।
   किस किस को बाहर करें ? रंजीत सिन्हा को भूल गए क्या ? इतिहास का सबसे भ्रष्ट सीबीआई मुखिया रहा है यूपीए के शासनकाल में, अब बीजेपी से ही नहीं बल्कि व्यवस्था से ही नफरत हो गयी गई है। सीबीआई कठिन परिश्रम के बाद भी चारा घोटाले में लालू यादव के खिलाफ न तो कोई प्रत्यक्ष सबूत दे सकी न ही कोई रिकवरी कर सकी। तब चारा घोटाले में से एक मुख्य आरोपी दीपक चांडक जिसके घर से सबसे ज्यादा रिकवरी हुई, उसे लालू यादव को फाँसने के लिए सरकारी गवाह बना कर सिर्फ एक आरोपी के गवाही पर मनुवादी न्याय के बल पर चारा घोटाले में दोषी करार दिया। मजे की बात यह भी है कि चारा घोटाले का सृजन कर्ता पंडित जगन्नाथ मिश्रा को अधिकांश मामलों में बरी किया गया।
तख्त बदल दो ताज बदल दो।
 बेईमानो का राज बदल दो।
तभी होगा देश का भला।