सवर्णवादी मानसिकता के पुलिस सिपाहियों ने गरीब निषाद बालक पर ढहाया जुल्म

लामुंहा, सुल्तानपुर, उत्तर प्रदेश (Lamunha, Sultanpur, Uttar Pradesh), एकलव्य मानव सन्देश (Eklavya Manav Sandesh) के लिए रामसतन निषाद की रिपोर्ट, 28 अक्टूबर 2018। सवर्णवादी मानसिकता के पुलिस सिपाहियों ने गरीब निषाद बालक पर ढहाया जुल्म।
   सुलतानपुर जनपद के चांदा तहसील की उत्तरी ग्राम सभा में दिनाँक 27 अक्टूबर 2018 समय शाम सात बजे रोब जमाने के लिए थाने की पुलिश ने निर्दोष नाबालिक निषाद बच्चे की बे रहमी से की पिटाई।
   नाबालिक बच्चा अमन निषाद उम्र लगभग 14 वर्ष पुत्र सुशील निषाद, ग्राम बारूआ उत्तरी का निवासी है। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि इस लडके की कोई गलती नहीं थी। चांदा थाना के छोटे दरोगा, उनके साथ सिपाही मान सिंह, धीरेन्द्र सिंह और होमगार्ड जनार्दन सिंह, जगदीश सिंह आदि पुलिस वाले थे। ये सब पुलिस वाले लडके को पकड़ कर पुलिया रोब जमाने के लिए दौड़ा-दौड़ा कर मार रहे थे, तब वह बालक जोर-जोर से चिल्लाने लगा। उसकी आवाज सुनकर गाँव के सैकड़ो स्त्री पुरुष एकत्रित हो गये। बच्चे क़ो पिटता देख ग्रामीणों का गुस्सा फूटा! और पुलिस उत्पीड़न क़ो लेकर मुखर हो गये। आव देखा ना ताव, बच्चे की पिटाई से क्षुब्ध ग्रामीणों ने पुलिस पार्टी पर हमला बोल दिया। अपने आप को घिरा देख पुलिस मौके पर बाइक छोड़ जान बचा कर भागी। इसी बीच मौके ए वारदात पर कोतवाली की गाड़ी भी पहुँच गयी। उग्र भीड़ ने सरकारी जीप क़ो भी निशाना बनाया और तोड़ फ़ोड़ कर दिया। मौके से जैसे तैसे पुलिश वाले भाग निकले। इस बाबत सी ओ लम्भुआ दलबीर सिह ने बताया कि घटना की कोई जानकरी नहीं है। वहीं लोगों का कहना है कि कोतवाल संजय सिंह का सी यू जी नंबर भी नहीं उठा।
   योगिराज में सवर्णवादी मानसिकता के सिपाही, दलित व पिछड़ा वर्ग की बस्तियों पर इस प्रकार कर रहे हैं तांडव। मित्र कही जाने वाली पुलिस ही जब शत्रु बन बैठे, तो गरीबों, मजलूमों की सुरक्षा कैसे होगी ??

Comments

हमारे प्रयास को अपना योगदान देकर और मजबूत करें

हमरी एंड्रॉइड ऐप मुफ्त में डाउनलोड करें

हमारे चैनल की मुफ्त में सदस्यता लें

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें

निषाद पार्टी न्यूज़

न्यूज़ वीडियो

निषाद इतिहास