भारत में पहली बार निषाद वंशीय माझी मछुआरों की पार्टी को मिला गठवन्धन का मजबूत सहारा-डॉ. संजय कुमार निषाद

लखनऊ, उत्तर प्रदेश (Lucknow, Uttar Pradesh), एकलव्य मानव सन्देश (Eklavya Manav Sandesh) ब्यूरो द्वारा निर्बल इन्डियन शोषित हमारा आम दल (निषाद पार्टी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष महामना डॉ. संजय कुमार निषाद का लेख, 13 अक्टूबर 2018। आदरणीय मित्रों ,
              जय निषाद राज
विगत 1 वर्ष पूर्व मध्यप्रदेश में पदार्पित हुई निषाद पार्टी का गोंडवाना गणतंत्र पार्टी और समाजवादी पार्टी के  साथ गठबंधन हुआ है इन पार्टियों के पूर्व में कई विधायक रह चुके हैं। इन पार्टियों से गठबंधन होना निषाद पार्टी को मजबूती मिलना है। भारत में पहली बार हम निषादवंशीय, माझी मछुआरों की किसी पार्टी को गठबंधन के सहारे आगे बढ़ने का मौका मिल रहा है। यह उत्साह का विषय है और पूरा समाज प्रगति के पथ पर है।
     जैसे कल से गठबंधन हुआ है, कुछ विरोधी कीड़े, कुछ ज्यादा ही कुलबुलाने लगे हैं। लेकिन हमें परेशान होने की,  उत्तेजित होने की, नकारात्मक सोचने की जरूरत नहीं है। बल्कि संयमित हो करके बुद्धिमानी से, सावधानी से, निडरता से, राजनीति के हर दांव पेंच को समझते हुए, अपने आप को दिग्गज मान बैठे, इन अनैतिक, अत्याचारी, निरंकुश, शोषणकारी पार्टियों का विरोध करना है। और समाज को अपने उज्जवल भविष्य के लिए निषाद पार्टी में जोड़कर जहां जैसी गठबंधन की सीटें मिलती हैं सहयोग और समर्थन करना है।
      भाजपा-कांग्रेस के कुछ गुलामों के अलावा आजाद विचारधारा के लोगों को टिकट तो देगी नहीं, जो हमारी आपकी बात जाकर के सदन में करें। तो कम से कम गठबंधन के सहारे आप कुछ विधायक बनाइए, जो आपकी आवाज को सदन में उठा सकें।
     ध्यान रखिएगा निषाद पार्टी हाइब्रिड पौधे की तरह नहीं है, जिसे आपने आज लगाया कल फूल निकला, फिर फल आया और आपने तोड़ कर खा लिया था। निषाद पार्टी पूरे देश में एक वटवृक्ष की तरह तैयार होकर आपको छाया देना चाहती हैं। उसे थोड़े से वक्त की जरूरत है। यदि आप अपने हक अधिकार के लिए 70 साल से भाजपा और कांग्रेस के सामने गिड़गिड़ा रहे हैं,  तो निषाद पार्टी के विषय में इतनी जल्दी नकारात्मक सोच मत करिए। हमारे देश में हमेशा से गुलाम पाले जाते रहे हैं। वे कभी भक्तों के रूप में, कभी भाट और चारण के रूप में, सभी मोहरें पाकर कविता लिखने वाले कवियों के रूप में और आजाद भारत में भाजपा, कांग्रेस में चंद सिक्कों के लिए अपने समाज का सौदा करने वाले लोगों की कमी नहीं है। यदि आपका जमीर जिंदा है और समाज के लिए कुछ करने के लिए दिल गवाही देता है तो आप सभी निः स्वार्थ भावों से निषाद पार्टी में जुड़ कर अपने लिए काम करें। जब आप अपने लिए काम करेंगे उस कार्य पर सफलता पर अपना अधिकार होगा।
      आप सभी को सीधे-सीधे तौर पर मानना चाहिए कि गठबंधन का पूरा विरोध भाजपा और कांग्रेस के खिलाफ भाजपा कांग्रेस में जुड़े समाज के नेताओं से हमारी सीधे-सीधे प्रतिस्पर्धा है और हम आमने सामने अगर इन नेताओं को पार्टी सीट नहीं है। इतना परेशान क्यों हैं। इनको लग रहा है निषाद पार्टी के विधायक सदन में पहुंच जाएंगे तो माझी मसला हल हो जाएगा। तो इनको आरक्षण के नाम पर मिलने वाले टुकड़े बंद हो जाए।

Comments

हमारे प्रयास को अपना योगदान देकर और मजबूत करें

हमरी एंड्रॉइड ऐप मुफ्त में डाउनलोड करें

हमारे चैनल की मुफ्त में सदस्यता लें

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें

निषाद पार्टी न्यूज़

न्यूज़ वीडियो

निषाद इतिहास