क्या अब भाजपा सरकार सेना में भी जाती पांत का भेदभाव कर रही है ?


ज्ञानपुर, भदोही, उत्तर प्रदेश (Gyanpur, Bhadohi, Uttar Pradesh), एकलव्य मानव संदेश (Eklavya Manav Sandesh) ब्यूरो रिपोर्ट, 18 नवम्बर 2018।क्या अब भाजपा सरकार सेना में भी जाती पांत का भेदभाव कर रही है ?
 वकील बिन्द को भाजपा सरकार ने नहीं दिया शहीद का दर्जा तो परिजनों ने अंतिम संस्कार करने से किया मना । शनिवार 17 नवम्बर को शव पहुंचने पर परिजनों ने किया हंगामा।
नक्सली हमले में मृत्य शहीद वकील बिन्द का पार्थिव शरीर पिछले 24 घंटे से उनके पैतृक गांव मदनपुर में आकर वैसे ही पड़ा हुआ है। प्रशासन की ओर से शहीद को सम्मान देने के लिए अभी तक कोई नहीं पहुंचा है। दूसरी ओर परिवार के लोग पिछले चार दिन से बेटे के निधन को लेकर बेहाल हो रहे हैं और उनकी तबियत बिगड़ती जा रही है, लेकिन प्रशासन के कान पर जूं तक नहीं रेंग रही है।
    प्रशासन नक्सली हमले में मारे गए वकील बिन्द को शहीद का दर्जा नहीं दे रहा है। यह सब राजनीतिक चाल है। पिछड़े समाज के लोगों को सम्मान न देने की प्रशासन की नियत साफ दीख रही है। अब सेना में भी प्रशासन जातिवादी भेदभाव दिखा रहा है। लखनऊ में एप्पल के एरिया मैनेजर विवेक पांडेय को यूपी पुलिस द्वारा गोली मारने की घटना को सवर्ण वादी मीडिया ने इतना हाय तौबा मचाया और सरकार भी नौकरी देने से लेकर लाखों का मुवावजा लेकर उसके घर तक पहुंच गई क्योंकि वह ब्राह्मण था और एक पिछड़े समाज का बेटा देश की सुरक्षा में तैनात नक्सली हमले में मारा जाता है और उसकी मौत को प्रशासन शहीद घोषित करने में भी हीला हवाली कर रहा है। यह कैसी शासन की नीति है। बिना औपचारिक घोषणा के स्थानीय प्रशासन शहीद को गांड ऑफ आनर देने पहुंच जाता है लेकिन परिवार वालों को शहीद का डाक्यूमेंट्स नहीं देता है। दूसरी ओर कुछ स्थानीय नेता सहानुभूति जताने और अपने रसूख का उपयोग कर बिन्द समुदाय का सच्चा शुभचिंतक बनने का प्रयास कर रहे हैं। जबकि वकील बिन्द के परिवार को शहीदों के परिवार को मिलने वाले मुवावजे पर कोई बात नहीं कर रहा है।
  छत्तीसगढ में नक्सली हमले में वृहस्पतिवार को भदोही जनपद के गोपीगंज थानाक्षेत्र के मदनपुर गांव निवासी, छत्तीगढ़ आर्म्ड फोर्स के जबान वकील कुमार बिन्द के शहीद हो जाने पर इलाके में गहरा शोक व्यक्त किया गया।
मदनपुर गांव के रामनाथ बिन्द के पुत्र वकील कुमार बिन्द 2014 में छत्तीसगढ आर्म्ड फोर्स में भर्ती हुए । 2016 में उनकी शादी हुई और आठ माह का एक जच्चा भी है।
    निषाद पार्टी के जिलाध्यक्ष ने प्रशासन के भेदभाव पूर्ण रवैये के खिलाफ आंदोलन की धमकी दी है।