मध्य प्रदेश में माझी समाज के साथ कि गयी वायदा खिलाफी भारी पड़ेगी भाजपा को-डॉ. संजय कुमार निषाद

जबलपुर, मध्य प्रदेश (Jabalpur, Madhya Pradesh), एकलव्य मानव संदेश (Eklavya Manav Sandesh) ब्यूरो रिपोर्ट, 21 नवम्बर 2018। मध्य प्रदेश में माझी समाज के साथ कि गयी वायदा खिलाफी भारी पड़ेगी भाजपा को, यह कहना है निषाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष महामना डॉ. संजय कुमार निषाद।
निषाद पार्टी द्वारा आज 21 नवम्बर को मछुवा समुदाय की दशा एवं दिशा पर चिंतन हेतु निषाद वंशीय मांझी, मझवार, कश्यप, बाथम, केवट, कहार, धीवर, निषाद के साथ सभी वंचित जातियों को विकास की मुख्यधारा में लाने के लिए एक चुनाव रैली का आयोजन मझौली, पाटन जबलपुर में किया गया। निषाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ संजय कुमार निषाद मुख्य अतिथि कार्यक्रम में कार्यकर्ताओं पदाधिकारीयों एवं जन-मानस को सम्बोधित करेंगे।
      प्रेसवार्ता में डा संजय कुमार निषाद जी ने कहा कि भाजपा सरकार की मांझी जनजाति के वादा खिलाफी के चलते सर्वाधिक जनसंख्या वाले मछुवारा समाज को आज अपने ही अधिकारों से वंचित होना पड़ रहा है। भाजपा ने सत्ता में आते ही मछुवारा समाज की सभी जातियों को अनुसूचित जनजाति की सुविधा देने तथा समान मछुवा नीति लागू कर नदी, तालाबो, बांधों मे मछुवारों का हक दिलाने वादा किया था, किन्तु 15 वर्ष राज्य में तथा 5 वर्ष केन्द्र में सरकार होने के बावजूद समाज को अंधेरे में रखना "मुंह में राम बगल में छुरी" वाली कहावत को चरितार्थ करता है।
उत्तर प्रदेश में राजनीतिक भूचाल लाने के बाद। म.प्र. और अन्य प्रांतों की भांति मध्य प्रदेश में भी राजनीतिक झंडा गाड़ने की प्रतिबद्धता दोहराई।
     डॉक्टर निषाद ने बताया कि आजादी की लड़ाई में भी हम निषादों का गौरवशाली योगदान रहा है। अंग्रेजों ने क्रिमिनल ट्राइब्स एक्ट, फिशरीज एक्ट, माइनिंग एक्ट आदि बनाकर के हम निषादों को उजाड़ दिया। आजादी के बाद मध्यप्रदेश में भाजपा और कांग्रेस ने संवैधानिक विसंगति कर हम निषाद वंशियों को, मांझी आदिवासी आरक्षण से वंचित कर दिया है। 1976 के बाद माझी पूरे मध्यप्रदेश के लिए जनजाति घोषित है और प्रेसिडेंट आर्डर 1950, 1956, 1976, और स्पष्ट उल्लेख है कि मछुआ नाविक, मांझी जनजाति पाई जाती है। लेकिन आज मध्य प्रदेश के करोड़ों मछुआरों को उनके संवैधानिक अधिकारों से वंचित कर दिया गया है। मांझी मछुआरे बहुत संख्यक में है, किंतु आज तक भाजपा और कांग्रेस राजनीतिक पार्टियों ने किसी भी मांझी जनजाति के व्यक्ति को न तो राजनीतिक संरक्षण दिया और ना ही लोकसभा, विधानसभा के कैबिनेट में कोई प्रतिनिधित्व दिया।
        डॉक्टर संजय कुमार निषाद जी ने कहा की "जिसका दल होता है उसका बल होता है और उसकी समस्याओं का हल होता है"। उन्होंने प्रदेश और देश के कई कम जन संख्या वाले जातियों का उदाहरण बताते हुए कहा कि जिस तरह से जाटव, अहिरवार भाइयों ने मान्यवर कांशीराम के नेतृत्व में बहन मायावती को अपना कमांडर माना उनकी समस्याओं का निदान हो गया और बहन मायावती जी चार बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हुई। यादव भाई संगठित हुए और उन्होंने अपना कमांडर चुना और उत्तर प्रदेश, बिहार में अपना मुख्यमंत्री बना करके अपने हक अधिकारों को प्राप्त किया। उसी तरह से मध्य प्रदेश में भी सभी माझी, मछुआरे डॉक्टर संजय निषाद जी को अपना कमांडर मान चुके हैं और निर्बल इंडियन शोषित हमारा आम दल (निषाद पार्टी) के नेतृत्व में विधानसभा चुनाव दमखम से लड़ रहे हैं। और जब तक अपना विधायक विधानसभा में नहीं पहुंचाएंगे सत्तालोलुप भाजपा, कांग्रेस की सरकारों को उखाड़ कर नही फेकेंगे, तब तक मांझी को उनका उचित हक नहीं मिलेगा।
     डॉक्टर निषाद ने कहा की 100 विधानसभा मछुआरा बाहुल्य हैं और 40 से 60 हजार वोट हैं। माझी मछुआरा समाज अब अपने संवैधानिक अधिकारों के प्रति जागरूक हो गया है। आगामी लोकसभ 2019 के चुनाव में भारत के सभी राज्यों से निषाद पार्टी लोकसभा में अपने प्रत्याशी उतार कर के अपने राजनैतिक वकील को देश के सदन में समाज का प्रतिनिधित्व करने के लिए भेजेगी और समाज का चुना हुआ वह वकील सदन में सामाजिक मुद्दों पर बहस करके विगत 70 वर्षों से उपेक्षित समाज को उनके हक अधिकार की लड़ाई लड़ेगा और उन्हें इंसाफ दिलाएगा।
      महामना डॉ. संजय कुमार निषाद जी ने सत्ताधारी भाजपा पर आरोप लगाते हुए जनता से आह्वान किया कि भाजपा ने आपके लाखों बच्चों का जीवन बर्बाद कर दिया। भारतीय जनता पार्टी हमें मस्जिद और मंदिर पर लड़ा रही है। जब चुनाव आता है तब इन हिंदू और मुसलमान नजर आते हैं। जैसे चुनाव खत्म हो जाता है वही यही मोदी पाकिस्तान बिरयानी खाने जाते हैं। हम नौजवानों को धर्म नहीं रोजगार चाहिए, शिक्षा चाहिए, स्वास्थ्य चाहिए क्षेत्र का विकास चाहिए।
    जीवन बर्बाद करने वाली इन सरकारों को यदि आपने समय रहते उखाड़ करके नहीं फेंका तो अंग्रेजों की तरह यह सरकारें भी आपको उखाड़ कर के फेंक देंगी। क्योंकि संविधान से तो इन सरकारों ने आपका मांझी होने का वजूद ही छीन लिया है। बस आपके जीवन का वजूद बचा है अगर आपने अगली बार इन्हें सत्ता में पहुंचने दिया, आपका सारा जीवन समाप्त कर दिया जाएगा। जनता से आह्वान करते हुए श्री निषाद ने कहा की देश का मान सम्मान स्वाभिमान और संविधान आपके हाथों में है। इस बार आपको निषाद पार्टी के बैनर तले अपने नेता का आदेश मानते हुए निर्बल इंडियन शोषित हमारा आम दल में अपने प्रत्याशी कांशी राम विधानसभा पाटन एवं विधानसभा वर्गी से इन्दल वर्मन को वोट देकर जिताएं और विधानसभा में पहुंचाने का काम करें। और चुनाव में लग जाने का निर्देश दिया। सभी स्तर तक के कमेटी का गठन हो गया है।