सोनभद्र के वाराणसी-शक्तिनगर मार्ग से बालू-गिट्टी से भरे ओवरलोड ट्रकों का बेधड़क हो रहा है संचालन

सोनभद्र, उत्तर प्रदेश (Sonbhadra, Uttar Pradesh), एकलव्य मानव संदेश (Eklavya Manav Sandesh) ब्यूरो चीफ राम विलास निषाद की रिपोर्ट, 30 नवम्बर 2018। सोनभद्र के वाराणसी-शक्तिनगर मार्ग से बालू-गिट्टी से भरे ओवरलोड ट्रकों का बेधड़क हो रहा है संचालन। जिले में गिट्टी और बालू लदे ओवरलोड ट्रकों का संचालन बड़े ही संगठित ढंग से किया जा रहा है। लोगों को हैरानी इस बात की है, कि खुलेआम हो रही ओवरलोडिंग पर (स्वच्छ व स्वास्थ्य) प्रशासन और जन प्रतिनिधि मौन हैं। खास बात है कि स्थानीय स्तर पर ट्रक का भरपूर इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन इस ओर एआर टीओ प्रवर्तन की नजर नहीं पड़ती है। हालांकि, एआरटीओ प्रवर्तन का दावा है कि लगातार ओवरलोड ट्रकों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है।
     सूत्र बताते हैं कि गिट्टी और बालू लदे ओवरलोड ट्रकों के संचालन का काम इतने संगठित तरीके से किया जा रहा है कि, प्रशासनिक अधिकारी भी सब कुछ जान कर अंजान बने हुए हैं। खनिज बैरियर पर रात में यदा-कदा ड्यूटी पर लगाए गए अधिकारी एवं जिले के कई थानों के सामने से ओवरलोड ट्रक गुजरते हैं तो वे सब इस तरफ से अनजान बन जाते हैं।          बैरियर सूत्रों के अनुसार यहां कर्मचारियों की ड्यूटी सिर्फ  परिवहन प्रपत्र के जांच के लिए लगाई जाती है, उन्हें गुजरने वाले ओवरलोड ट्रकों को रोकने का अधिकार नहीं दिया गया है। यह कह कर पल्ला झाड़ लिया जाता है कि यह काम एआरटीओ प्रवर्तन का है।
     एआरटीओ प्रवर्तन का कहना है कि बैरियर हो या फिर खदान क्षेत्र से निकलकर राजमार्ग का कोई क्षेत्र हो ,जांच के दौरान जहां भी ओवरलोड ट्रक मिलते हैं उनके खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जाती है।
    ट्रको के संचालन से जुड़े सूत्रों का कहना है कि जिले में एक तरह से ओवरलोड लोडिंग का सिस्टम ही बन गया है। जिले के लोगो का कहना है कि ओवरलोड ट्रकों की सांठगांठ के सबंध न होते तो जिले से बालू और गिट्टी के ओवरलोड ट्रको का परिवहन संभव ही नहीं हो पाता।

Comments

हमारे प्रयास को अपना योगदान देकर और मजबूत करें

हमरी एंड्रॉइड ऐप मुफ्त में डाउनलोड करें

हमारे चैनल की मुफ्त में सदस्यता लें

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें

निषाद पार्टी न्यूज़

न्यूज़ वीडियो

निषाद इतिहास