सोचो जरा अक्ल लगाकर कि राम मंदिर के लिए कुर्वानी पहले किसे देनी चाहिए ??

अलीगढ़, उत्तर प्रदेश (Aligarh, Uttar Pradesh), एकलव्य मानव संदेश (Eklavya Manav Sandesh) सोशल मीडिया ब्यूरो रिपोर्ट, 8 दिसम्बर 2018। जो लोग राम मंदिर निर्माण के लिए अयोध्या चलने या दिल्ली चलन को कहते हैं और राम मंदिर के लिए कुर्बानी की बात कर रहे हैं, उनसे ये पूँछें कि...
1) अमित शाह का बेटा  राम मंदिर के लिए कुर्बानी देने के लिए तैयार है ?
2) क्या उद्धव ठाकरे का बेटा कुर्बानी देने के लिए तैयार है ?
3) क्या राजनाथ सिंह का बेटा कुर्बानी देने के लिए तैयार है ?
4) क्या नितिन गडकरी का बेटा कुर्बानी देने के लिए तैयार है?
5) क्या गिरिराज सिंह का बेटा कुर्बानी देने के लिए तैयार है ?
6) क्या अश्विनी चौबे का बेटा कुर्बानी  देने के लिए तैयार है ?
7) क्या सुशील मोदी का बेटा कुर्बानी देने के लिए तैयार है ?
8) क्या कैलाश विजयवर्गीय का बेटा कुर्बानी देने के लिए तैयार है ?
9) क्या विनय कटियार का बेटा कुर्बानी देने के लिए तैयार है?
10) क्या संबित पात्रा कुर्बानी देने के लिए तैयार है ?
11) क्या उमा भारती कुर्बानी देने के लिए तैयार है ?
12) क्या गिरिराज सिंह खुद कुर्बानी देने के लिए तैयार है ?
13) क्या साक्षी महाराज कुर्बानी देने के लिए तैयार है ?
14) क्या नंदकिशोर यादव का बेटा और खुद वो कुर्बानी देने के लिए तैयार है ?
15) क्या मुरली मनोहर जोशी कुर्बानी देने के लिए तैयार है ?
16) क्या रविशंकर प्रसाद का बेटा और खुद कुर्बानी देने के लिए तैयार है ?
17) क्या शिवराज सिंह चौहान का बेटा कुर्बानी देने के  लिए तैयार है ?
18) क्या रमन सिंह का बेटा कुर्बानी देने के लिए तैयार है ?
19) क्या योगी आदित्यनाथ कुर्बानी देने के लिए तैयार है ?
20) क्या मोहन भागवत कुर्बानी देने के लिए तैयार है ?
   हमारे देश के युवा ये देख लें कि ये लोग राम मंदिर के लिए  कुर्बान होने को तैयार हैं, तभी जाएं नहीं तो, 1992 का इतिहस आपके सामने है कि, लालकृष्ण आडवाणी, उमा भारती, प्रवीण तोगड़िया, अशोक सिंघल, नरेंद्र मोदी, मुरली मनोहर जोशी जैसे लोगों को  कुछ नहीं हुआ। हाँ केवल कोर्ट-कचहरी हुआ और वो अपने परिवार के साथ आराम से रह रहे हैं  और देश के हजारों कारसेवक बे मौत मारे गए और इनके परिवार की कोई सुध भी लेने नहीं जाता कि, इनके बच्चे-बीबी, माता-पिता कैसे हैं।
       इन सभी नेताओं के बच्चे अच्छे स्कूल में पढ़ने व विदेश में डिग्रीधारी बनने जाते हैं। और देश की आम जनता के बच्चे मंदिर-मस्जिद बनाने को जाते हैं और मार दिए जाते हैं। 
देश का प्रत्येक व्यक्ति चाहता है दो वक़त की सुकून की रोटी और कुछ भी नहीं।
1. किसान चाहता है फसल की पूरी कीमत।
2. पढे लिखा युवक नौकरी चाहता है।
3. बिज़नेस मैन ग्रहक चाहता है।
4. सेना के जवान आटोमेटिक हथियार चाहता है।
पर यह समझ नहीं आ रहा है हम किस ओर जा रहे हैं या
हमें घुमा दिया जा रहा है।
      सोचो जरा अक्ल लगाकर कि राम मंदिर के लिए कुर्वानी पहले किसे देनी चाहिए ?? 
विचार उचित लगे तो अपने हर साथी को यह खबर जरूर शेयर करें।

Comments

  1. Pahale Ram Mandir ki Qurbani Yogi aur Modi ko Dena chahiye

    ReplyDelete

Post a Comment

हमारे प्रयास को अपना योगदान देकर और मजबूत करें

हमरी एंड्रॉइड ऐप मुफ्त में डाउनलोड करें

हमारे चैनल की मुफ्त में सदस्यता लें

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें

निषाद पार्टी न्यूज़

न्यूज़ वीडियो

निषाद इतिहास