निषाद पार्टी ने अनेकों जनपदों में एससी आरक्षण और गाजीपुर काण्ड पर सौंपे व्यापन

अलीगढ़, उत्तर प्रदेश (Aligarh, Uttar Pradesh), एकलव्य मानव संदेश (Eklavya Manav Sandesh) ब्यूरो रिपोर्ट, 5 जनवरी 2019। निर्बल इंडियन शोषित हमारा आम दल (निषाद पार्टी) ने निषाद वंश की सभी जातियों के आरक्षण पर जारी 23 दिसम्बर 2016 के शासनादेश और 29 मार्च 2017 के इलाहाबाद हाईकोर्ट के ऑर्डर को लागू कराने के लिए 3 जनवरी से लगातार जबरदस्त प्रदर्शन के  पूरे उत्तर प्रदेश में जिलाधिकारी और मंडलायुक्तों को ज्ञापन सौंपे जा रहे हैं।
     इस बीच पूर्व मंत्री श्री रामभुआल निषाद ने गाजीपुर में निर्दोष बेकसूर लोगो का उत्पीड़न पुलिस प्रशासन द्वारा किये जा पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि निष्पक्ष जांच किये बिना निर्दोष व्यक्तियों को परेशान न किया जातथा फर्जी मुकदमा उनके ऊपर ना लगाया जायं। नहीं तो पूरे प्रदेश में निषाद समाज आंदोलन को बाध्य होगा इसके जिम्मेदार बीजेपी सरकार होगी।
    3 जनवरी को अलीगढ़ में राष्ट्रीय सचिव डॉ. जसवन्त सिंह निषाद के नेतृत्व में ज्ञापन दिया गया।
   5 जनवरी को जिलाधिकारी बांदा को ज्ञापन सौंपते हुए निषाद पार्टी जिला अध्यक्ष मुकेश कुमार निषाद ने मांग की, गाजीपुर घटना की सीबीआई जांच हो तथा दोषियों को सजा दी जाए और निषाद पार्टी के कार्यकर्ताओं को छोड़ा जाए और हमार आरक्षण लागू किया जाए।
     ज्ञापन देने वालों में जिला महासचिव रामाकांत निषाद, राष्ट्रीय निषाद एकता परिषद अध्यक्ष शैलेंद्र कुमार निषाद, जिला कोषाध्यक्ष मुकेश कुमार सोनकर, जिला सलाहकार श्री सुरेश कुमार एडवोकेट, श्री भूरा प्रसाद निषाद एडवोकेट, श्री विजय कुमार सोनकर एडवोकेट तथा अन्य पदाधिकारी मौजूद रहे।
    गोंडा जनपद में निषाद पार्टी ने ज्ञापन सौंप कर आरक्षण को लागू कराने और निषादों का गाजीपुर में उत्पीड़न न करने की मांग की।

03.01.2019 को निषाद पाटी जिला ईकाई औरेया ने मुखलय पर निषाद एससी आरक्षण औऱ गाजीपुर की घटना को लेकर जिलाध्यक्ष के नेतृत्व में ज्ञापन दिया।