सोनभद्र में निषाद पार्टी का निषाद आरक्षण और गाजीपुर में निषादों पर पुलिस कार्यवाही के पर जनाक्रोश, दिया ज्ञापन

सोनभद्र, उत्तर प्रदेश (Sonbhadra, Uttar Pradesh), एकलव्य मानव संदेश (Eklavya Manav Sandesh) ब्यूरो चीफ राम विलास निषाद की रिपोर्ट, 4 जनवरी 2019।  सोनभद्र में निषाद पार्टी का निषाद आरक्षण और गाजीपुर में निषादों पर पुलिस कार्यवाही के पर जनाक्रोश, दिया ज्ञापन।        सोनभद्र जिला में निर्बल इंडियन शोषित हमारा आम दल (निषाद पार्टी) ने 3 जनवरी गुरुवार को गाजीपुर की घटना में निषाद समुदाय पर पुलिस कारवाही और मोदी व योगी के वादा खिलाफी के विरोध में जिलाध्यक्ष रोहित विंद के नेतृत्व में कलक्ट्रेट पर प्रदर्शन के बाद जिलाधिकारी अमित कुमार सिंह को ज्ञापन सौपा गया। इस दौरान जिलाध्यक्ष रोहित बिंद ने कहा की निषाद पार्टी अंहिसा वादी है। उन्होंने गजीपुर की हुई घटना पर दुःख व्यक्त किया। उन्होंने हेड कांस्टेबल को खोने का गम, निषाद पार्टी को है। घटना की सी.बी.आई. जांच कराये जाने की मांग की। उन्होंने कहा कि इस घटना की पूरी जिम्मेदारी भाजपा की है।
योगी और मोदी ने निषाद समुदायओं का वोट लेकर छला है। दोनों ने अनुसूचित जाति का प्रमाण पत्र देने का वादा किया था। लेकिन वोट लेने के बाद धोखा दिया। उन्होंने आरोप लगाया कि गाजीपुर में निषाद समुदाय प्रधानमंत्री को ज्ञापन देने जा रहा था। लेकिन पुलिस ने उन्हें विभिन्न थानों में बंद कर दिया। बंद लोगों को छुड़ाने के लिए हमारे लोग धरना प्रदर्शन कर रहे थे। मोदी के रैली से लौट रहे बीजेपी के लोगों ने हमारे लोगों पर पत्थरबाजी शुरू कर दी। जिसमें एक पुलिस हेड कांस्टेबल की मौत हो गई। उन्होंने इस घटना के आरोपी बीजेपी के लोगों की गिरफ्तारी और दोषियों को सजा देने की मांग की। इस मौके पर संतोष कुमार साहनी, राज नारायण, प्रकाश राज कुमार, रामबहादुर, रामप्रताप, जितेंद्, रामसनेही, कमलावती, उर्मिला, राजकुमार, दीपक कुमार, आदि लोग मौजूद रहे।