जानिए !! कौन है एकलव्य मानव कल्याण आर्मी राष्ट्रीय मुख्य संचालक जसवन्त सिंह निषाद ??

अलीगढ़, उत्तर प्रदेश (Aligarh, Uttar Pradesh), एकलव्य मानव संदेश (Eklavya Manav Sandesh) ब्यूरो रिपोर्ट, 1 अक्टूबर ब2019। जय एकलव्य !!
वीर शहीद अखिलेश निषाद अमर रहे !!
जानिए !! कौन है एकलव्य मानव कल्याण आर्मी राष्ट्रीय मुख्य संचालक जसवन्त सिंह निषाद ??
जसवन्त सिंह निषाद का जन्म अलीगढ़ जनपद के शहर अलीगढ़ के सिविल लाइन्स इलाके के नगला मल्लाह नामक मोहल्ला में श्री जगन लाल और श्रीमती कोका देवी के सुपुत्र श्री नत्थी सिंह और चिरौंजा देवी के घर में 2 जुलाई 1968 को हुआ था। जसवन्त सिंह निषाद की शिक्षा अपने घर के सामने बने सरकार नगर पालिका के विद्यालय में हुई। कक्षा 6 से 8 तक की शिक्षा 1978 से 1981 तक ले. नाहर सिंह उ.मा. विद्यालय कुआरसी (अब ले. नाहर सिंह इण्टर कॉलिज) में हुई। इस विद्यालय में लगातार तीनों साल कॉलिज में टॉप किया। इसके बाद कॉलिज में विज्ञान की शिक्षा न होने के कारण 1981 में श्री मद ब्रह्मानंद (एस.एम.बी.) इण्टर कॉलिज रामघाट रोड, अलीगढ़ ने दाखिला लिया और 9 वीं एवं 10 वीं लगातार कॉलिज टॉप करते हुए 1983 में उत्तर प्रदेश बोर्ड से विज्ञान, जीव विज्ञान और गणित में विशेष योग्यता के कक्षा 10 पास किया। 10 वीं पास करने के बाद अलीगढ़ मुस्लिम विस्वविद्यालय में पी.यू.सी. को बन्द करके प्रारंभ हुए 10+2 के पहले बेच में दाखिला मिल जाने पर 10+2, 1985 में और 1989 में बी.एससी. (ऑनर्स) पास किया (एनरोलमेंट नम्बर S-7187) पास किया और बाद में ए. एम.यू. में ही एमएससी एग्रीकल्चर के लैंड यूज़ एन्ड मैनेजमेंट में दाखिला मिला लेकिन पढ़ाई को छोड़कर कर दिल्ली जाकर बिज़नेस किया और साथ में आयुर्वेद रत्न की परीक्षा पास करके 1991 में अलीगढ़ लौटकर अपनी प्राइवेट मेडिकल प्रेक्टिस प्रारंभ की जो 2007 तक जारी रही। इसके बाद 2007 से मेडिकल प्रेक्टिस बन्द करके बजाज एलियांज लाइफ इन्सुरेंस कम्पनी में फ्रेंचाइजी लेकर जीवन बीमा का कार्य प्रारंभ किया। लेकिन 31 अक्टूबर 2007 को बजाज एलियांज लाइफ इंश्योरेंस कंपनी को छोड़कर टाटा एआईजी लाइफ इन्सुरेंस जो बाद में टाटा आईए लाइफ इन्सुरेंस कम्पनी बन गई उसमें अब तक कार्य किया। टाटा आइए लाइफ इन्सुरेंस कम्पनी में कार्य करने के साथ अन्य महिला पुरुषों को भी रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के लिए निषाद कन्सल्टेंसी सर्विसेज की स्थापना जनवरी 2008 में की और टाटा आइए में अलीगढ़ ब्रांच के पहले सीनियर बिज़नेस एसोसिएट बनने का गौरव प्राप्त हुआ। इसी दौरान 3 साल से ज्यादा रिलायंस निप्पन लाइफ इन्सुरेंस कम्पनी में भी एसोसिएट के रूप में अच्छा कार्य किया।
       इसके साथ 1984 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी जी की मृत्यु के उपरांत जब 10+2 की शिक्षा चल रही थी तभी कांग्रेस पार्टी के साथ जुड़कर वार्ड कमैटी के महा मंत्री बनकर राजनीतिक गतिविधियों में भाग लेना प्रारंभ किया। 1988 में तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी जी द्वारा स्थापित कांग्रेस आर्थिक सलाहकार कमैटी के जिला महामंत्री बनने का अवसर मिला।
      जनवरी 1989 में पहली बार हुए उत्तर प्रदेश निकाय चुनाव में तत्कालीन अलीगढ़ नगर पालिका का चुनाव लड़ा और तीसरे स्थान पर रहे। क्योंकि वार्ड में 13400 से ज्यादा वोट में 1300 के लगभग वोट हिन्दू और 12000 मुस्लिम थे।
       1986 में आगरा के मुरारी लाल कश्यप जी द्वारा स्थापित निषाद महा सभा के जिला महा सचिव बनकर कार्य करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ।
     20 जनवरी 1994 में स्व.बाबूजी मनोहर लाल वर्मा जी द्वारा स्थापित लोधी निषाद बिन्द कश्यप एकता समता महा सभा की लखनऊ रैली में भाग लेकर लौटने के बाद 22 जनवरी को नगला मल्लाह से घर बेचकर ग्राम सभा कुआरसी में निवास बनाया। इसी साल हुए अलीगढ़ के लोधा ब्लॉक के कुआरसी ग्राम सभा के बीडीसी का चुनाव लड़ा। लेकिन नये वाशिंदे होने के कारण 86 वोट प्राप्त कर संतोष करना पड़ा।
    1994 में तत्कालीन मत्स्य एवं  पशुधन मंत्री मनोहर लाल वर्मा का अपने धोर्रा माफी अलीगढ़ पर स्थित पंकज क्लीनिक स्वागत किया जिसके बाद मंत्री जी से मिले मत्स्य व्यवसाय की जानकारी के बाद अपनी नानिहाल नरौरा बुलंदशहर में "निवाड़ी खादर मत्स्य जीवी सहकारी समिति लि." का सचिव बनकर पंजीकरण कराने के बाद गंगा नदी में 1994 से 1996 तक मत्स्य आखेट का ठेका लेकर निषाद समाज को रोजी रोटी के चलाने में सहयोग दिया।
    वीरांगना फूलन देवी जी द्वारा स्थापित एकलव्य सेना के दिल्ली के मावलंकर हाल में 7 जून 1995 को हुए पहले सम्मेलन में भाग लेने के बाद आगरा मण्डल (अब आगरा और अलीगढ़ दो मण्डल) का महा सचिव बनकर कार्य करने के दौरान ही 28 जून 1996 को अलीगढ़ के ग्राम कुआरसी स्थिति पंकज क्लीनिक पर दिल्ली के चौ.हरफूल सिंह कश्यप (जिनके घर फूलन देवी जी जेल से रिहा होने और उम्मीद सिंह कश्यप से शादी करने तक रहीं थीं, के कर कमलों से "एकलव्य मानव संदेश हिन्दी साप्ताहिक समाचार पत्र के प्रथम अंक का प्रकाशन कराया और आज तक इस साप्ताहिक समाचार पत्र के सम्पादक, प्रकाशक, स्वामी के रूप में समाज सेवा के मजबूत कदम चलते हुए आगे बढ़ रहे हैं। और एकलव्य सेना को मजबूत बनाने में बड़ी भूमिका निभाई।
    1998 में अलीगढ़ की कृष्णाजंली में तत्कालीन कल्याण सिंह के मुख्यमंत्री काल में, मत्स्य एवं पशुधन राज्य मंत्री गोरख प्रसाद निषाद के मुख्य अतिथिय में अलीगढ़ जनपद में पहली बार स्व. राधेश्याम मेहरा जी (निषाद नाम के ऊपर महत्वपूर्ण अध्ययन करने वाले एवं रिटायर्ड पेशकार, मेरठ से अलीगढ़ आकर अपनी ससुराल में आकर बसने वाले) की प्रेरणा से "निषाद जयन्ती" वरिष्ठ बसपा नेता स्व. राम सहाय कश्यप जी की अध्यक्षता में मनाने का सौभाग्य प्राप्त हुआ।
    अलीगढ़ से 19 किलोमीटर दूर ग्रामीण क्षेत्र में सेवा की भावना से अपना क्लीनिक तहसील इगलास के ग्राम ताहरपुर में स्थापित किया और वहीं पर अच्छी शिक्षा के लिए सन 2000 में "एकलव्य एजुकेशनल सोसाइटी" का पंजीकरण कराने के बाद प्रबन्धक के रूप में "एकलव्य मॉडर्न कॉन्वेंट स्कूल" तरहपुर की स्थापना की और इलाके में अच्छी गुणवत्ता की शिक्षा का श्रेय प्राप्त किया। यह स्कूल किराए की इमारत के सन 2007 तक बड़ी उपलब्धि के साथ चला बाद में इमारत के मालिक से नाराजी के चलते बन्द करना पड़ा।
    17 जून 2003 से 31 दिसम्बर 2006 तक मेडिकल प्रेक्टिस के दौरान स्वदेशी मार्केटिंग कम्पनी (MLM) में कार्य करते हुए गोल्ड लेवल तक अचीवमेंट प्राप्त किया।
   नवम्बर 2014 में राष्ट्रीय निषाद एकता परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. संजय कुमार निषाद से फ़िरोज़ाद जनपद के निषाद बाहुल्य टुंडला तहसील इलाके सीयर देवी मंदिर पर पहली बार मुलाकात करने बाद से सितम्बर 2019 तक राष्ट्रीय निषाद एकता परिषद और बाद में स्थापित निर्बल इंडियन शोषित हमारा आम दल (निषाद पार्टी) राष्ट्रीय सचिव के रूप में दिन रात कार्य करते हुए पार्टी की मजबूती के लिए कार्य किया। जब मीडिया में निषाद पार्टी को कोई तरजीह नहीं मिलती थी, तब एकलव्य मानव संदेश समाचार पत्र एक बड़ा सहारा था। इस पार्टी को राष्ट्रीय और अंतर राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने के लिए जसवन्त सिंह निषाद के छोटे सुपुत्र और अलीगढ़ मुस्लिम विस्वविद्यालय की इंजीनियरिंग के छात्र कमल सिंह निषाद के बनाये गए डिजिटल चैनल (Eklavya manav sandesh ऐप, वेबसाइट eklavyamanavsandesh.com, यूट्यूब चैनल Eklavya manav sandesh) के माध्यम से अपने सैकड़ों रिपोर्टरों के सहयोग से पार्टी और संगठन को मजबूत किया।
    जसवन्त सिंह निषाद की सोच हमेशा कुछ नया एवं समाज के लिए अच्छा करने की रही है। इसी उद्देश्य से अब 19 सितम्बर को एकलव्य मानव कल्याण आर्मी की स्थापना की गई है। इसमें जसवन्त सिंह निषाद (मोबाइल नंबर 9219506267, 945311662) की भूमिका राष्ट्रीय मुख्य संचाकल की के साथ अन्य राष्ट्रीय संरक्षक गण हैं-
1.मथुरा जनपद के प्रमुख समाज सेवी, व्रन्दावन निवासी, श्री महेंद्र सिंह निषाद (9997375350) ;
2.इटावा की मड़ियाँ दिलीप नगर के, निषाद आरक्षण के लिए 7 जून 2015 को गोरखपुर के कसरबल में शहीद हुए, अखिलेश निषाद के पिताजी, श्री आत्मा राम निषाद जी (9568580498) ;
3.दिल्ली के समाज सेवी एवं युवा  ईं.परमवीर कश्यप (7834935626);
4.लखनऊ के समाज सेवी, ईं.अशोक कुमार साहनी (9415150553) ;
5.आगरा के बाबा बालक दास निषाद जी (9259346861) ; को सांकृतिक कार्यक्रम का प्रभारी बनाया गया है।
6.युवा शक्ति के रूप में सोशल मीडिया की जिम्मेदारी अलीगढ़ के राहुल कश्यप (7895699580) ;
  को सौंपी गई है।
     इस संगठन का उद्देश्य है-
(अ) समाज को प्रतिनिधित्व / आरक्षण दिलाने के लिए जागरूक करते हुए सरकार से दिलाने के लिए कार्य करना है। और इस कार्य में संगठन का कार्य जन, धन, समय का कम से कम नुकसान करते हुए अधिकतम लाभ दिलाने का होगा।
     (ब) समाज से बेरोजगारी को दूर करने के लिए (1)-सेवा, (2)-कृषि एवं (3)-मार्केटिंग में ट्रेनिंग के माध्यम से सितंबर 2020 तक एक लाख लोगों को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराकर कामयाब बनाने की योजना बनाई गई है।
   (स) देश के दूर दराज एवं पिछड़े इलाकों में डिजिटल शिक्षा के माध्यम से गुणवत्तापूर्ण शिक्षा का प्रचार प्रसार करना।

आप भी हमारे साथ केवल 125 रुपया की सदस्यता शुक्ल एवं ऑनलाइन आवेदन फार्म भरकर जुड़कर समाज को मजबूत बनाने में अपनी भूमिका सदस्य या पदाधिकारी बनकर निभा सकते हैं, जिसके लिए नीचे एक लिंकः दी जा रही है और आप इसको किलिक करके अपनी ईमेल आईडी या किसी अन्य की ईमेल आईडी से लॉगिन करके उसका पास वर्ड डालकर, खोलकर फार्म भरने के बाद ऑनलाइन सदस्यता शुक्ल भी यूपीआई आईडी या पेटीएम से भरकर जुड़ सकते हैं। फार्म भरते समय अपना व्हाट्सएप नम्बर, आधार कार्ड और चेहरे का साफ फ़ोटो अपलोड करना जरूरी है।

 एकलव्य आर्मी से जुड़ने के लिए इस सदयता फॉर्म को इस लिंक पर क्लिक करके भरें
 https://forms.gle/CVkdCxjRDzquoj2y9

(ऑनलाइन सदस्यता फार्म के लिए ईमेल आईडी जरूरी है, जो किसी की भी हो सकती है। सभी को सदस्यता के लिए केवल ऑनलाइन फार्म ही भरना होगा।)

आइये हम और आप बनायें एक मजबूत समाज, जहां हर घर में खुशहाली की हमेशा दीवाली मनती रहे और समाज को अपने स्वार्थ के लिए ठगने वालों का बहिष्कार हो......

एकलव्य मानव कल्याण आर्मी
सम्पर्क करें...
जसवन्त सिंह निषाद
राष्ट्रीय मुख्य संचालक
एकलव्य मानव कल्याण आर्मी
एवं
सम्पादक/प्रकाशक
एकलव्य मानव संदेश
मो./व्हाट्सएप नम्बर 9219506267,
मो.9457311662

फ़ेसबुक से जुड़ने के लिए हमारे
 Eklavya manav sandesh ( लिंकः https://www.facebook.com/eManavSandesh/ )
और
एकलव्य आर्मी ( https://www.facebook.com/EklavyaArmy/ )
 पेजों को लाइक करें
और
फ़ेसबुक ग्रुप- एकलव्य मानव संदेश / (जसवन्त सिंह निषाद / Jaswant Singh Nishad ) ग्रुप/Group (लिंकः https://www.facebook.com/groups/2017711221777673/ )
से जुड़ने के लिए अपनी रिक्वेस्ट भेजें,

यूट्यूब चैनल Eklavya manav sandesh ( लिंकः https://www.youtube.com/channel/UCw5RPYK5BEiFjLEp71NfSFg )
को देखने के लिए फ्री सब्सक्राइब कीजिए

ट्विटर पर @eManavSandesh को फॉलो करें

हमारे समाचार देखने के लिए गूगल प्ले स्टोर से एकलव्य मानव संदेश के ऐप को डाउनलोड करने के लिए Eklavya manav sandesh लिखकर खोजें या इस
https://goo.gl/BxpTre लिंकः को
किलिक करके ऐप डाऊनलोड करें।

Comments

  1. आप महान है गुरुदेव आप समाज के प्रति पूरी निष्ठा भाव से जो शिवा किया वह वाकई सराहनीय कार्य है हम युवा भी आपके मार्गदर्शन का अनुसरण करते हुए समाज को आगे बढ़ाने का काम करेंगे इस उद्देश्य के साथ मैं कंधे से कंधा मिलाकर आगे बढ़ने का प्रयत्न करता रहूंगा आपका छोटा एक सहयोगी.....
    जगदीश चंद्र केवट

    ReplyDelete

Post a Comment

हमारे प्रयास को अपना योगदान देकर और मजबूत करें

हमरी एंड्रॉइड ऐप मुफ्त में डाउनलोड करें

हमारे चैनल की मुफ्त में सदस्यता लें

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें

निषाद पार्टी न्यूज़

न्यूज़ वीडियो

निषाद इतिहास